अनशन पर बैठे हार्दिक पटेल ने लिखी वसीयत, लिए यह चौंका देने वाले फैसले

0
39
hardik patel write will

On fast, Hardik Patel writes will

पाटीदार आन्दोलन से सरकार की मुश्किलें बढ़ाने वाले हार्दिक पटेल के अनशन का आज 10 वां दिन है। इन 10 दिनों में कई राजनीतिक गतिविधियां हुई। अनशन के नौवें दिन रविवार को हार्दिक पटेल ने अपनी वसीयत ज़ारी की, जिसमें उन्होंने कई अहम फैसले लिए। हार्दिक पटेल ने अपनी सम्पूर्ण वसीयत का मालिक अपने माता-पिता को बनाया है। बता दें हार्दिक आरक्षण और किसानों की ऋण माफी की मांग को लेकर अनशन पर बैठे हुए है। देखें इसके अलावा और क्या है उनकी वसीयत में –

हार्दिक की संपत्ति मे एक कार है. इसके अलावा उनकी इंशोरेंस पॉलिसी है, जिसका वारिस उन्होंने अपने माता-पिता को बनाया है। इसके अलावा हार्दिक पर लिखी जा रही किताब ‘Who Took My Job’ की 15 फीसदी रॉयल्टी माता-पिता को, 15 फीसदी बहन को और बाकी की सारी रॉयल्टी आरक्षण आंदोलन में मारे गए युवाओं के परिवार को दी है।

इसके अलावा उन्होंने अपनी वसीयत में अपनी मृत्यु के बाद नेत्रदान करने की इच्छा भी जताई है। वहीं अभी 50,000 कैश उनके पास है, जिसमें से 20 हजार मां-बाप और 30 हजार गोशाला को दिया जाएगा।

अभी तक क्या हुआ

अभी तक तृणमूल कांग्रेस, राकांपा और राजद समेत कई राजनीतिक दलों के नेताओं और प्रतिनिधियों ने पिछले नौ दिनों में पटेल से मुलाकात की है और उन्हें अपना समर्थन दिया है। मगर फ़िलहाल इस मामले में भाजपा सरकार ने अभी तक हस्तक्षेप नहीं किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here