बार-बार धोखाधड़ी का शिकार हो रही सरकारी बैंक, नौ महीने में लगाया करोड़ों का चूना

0
48
2000 notes-min

नई दिल्ली। देश के सार्वजानिक बैंकों में धोखाधड़ी थमने का नाम नहीं ले रही है। वर्तमान वित्त वर्ष के नौ महीने में डेढ़ दर्जन बैकों में धोखाधड़ी के 8926 मामले सामने आए। इसमें बैंकों को 1.17 लाख करोड़ रुपए का चूना लगाया गया। देश की सबसे बड़ी बैंक एसबीआई को कर्जदाताओं ने अधिक चपत लगाई है। आरटीआई कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौर को सूचना के अधिकार के तहत रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से यह जानकारी मिली है।

उन्होंने बताया, दिसंबर, 19 तक नौ महीने के दौरान 30,300 करोड़ के धोखाधड़ी के 4,769 मामले एसबीआई ने दर्ज कराए। सरकारी बैंकों में 1.17 लाख करोड़ की धोखाधड़ी के मामलों का यह 26 फीसदी है। पंजाब नेशनल बैंक को 294 मामलों में 14,928.62 करोड़ का चूना लगा। नुकसान में वह एसबीआई के बाद दूसरे नंबर पर रहा है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बैंक ऑफ बड़ौदा में 250 मामलों में 11,166.19 करोड़ की धोखाधड़ी हुई है।

इसके अलावा इलाहाबाद बैंक के 860 मामले में 6,781.57 करोड़, बैंक ऑफ इंडिया के 161 मामलों में 6,626.12 करोड़, यूनियन बैंक के 292 मामलों में 5,604.55 करोड़, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स ने 282 मामले में 4,899.27 करोड़ की चूना लगाया गया है। वहीं केनरा बैंक, सिंडिकेट बैंक, कॉरपोरेशन बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, यूको बैंक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, आंध्र बैंक, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया, इंडियन बैंक और पंजाब व सिंध बैंक में 1,867 मामले सामने आए, जिसमें 31600.76 करोड़ की धोखाधड़ी निकलकर सामने आई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here