Breaking News

बल्लाकांड पर आकाश से बोले गोपाल भार्गव, तुम्हारी चर्चा तो सचिन से भी ज्यादा हो गई

Posted on: 09 Jul 2019 11:59 by Pawan Yadav
बल्लाकांड पर आकाश से बोले गोपाल भार्गव, तुम्हारी चर्चा तो सचिन से भी ज्यादा हो गई

भोपाल। मप्र विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे और बल्लाकांड के आरोपी भाजपा विधायक आकाश विजयवर्गीय को शबाशी दी। विधानसभा में भार्गव ने आकाश को देखकर कहा कि तुम्हारी चर्चा तो सचिन तेंदुलकर से भी ज्यादा हो गई। इस दौरान उनके आसपास बैठे सभी विधायक जोर-जोर से ठहके लगाकर हंसने लगे थे। हालांकि बल्लाकांड के बाद भाजपा को निंदा का सामना करना पड़ा था, बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी नसीहत दे चुके हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक विधानसभा के मानसून सत्र के पहले दिन जब सदन की कार्यवाही को स्थगित कर दिया गया, उस दौरान इंदौर -3 से भाजपा विधायक आकाश विजयवर्गीय नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव से मिलने उनकी सीट के पास पहुंचे। नेता प्रतिपक्ष भार्गव आकाश को देखकर कहा कि ना तुमने चैका मारा, न छक्का मारा, मगर तुम्हारी चर्चा तो सचिन तेंदुलकर से भी ज्यादा हो गई। इतना सुनते ही आसपास बैठे विधायकों की हंसी छूट गई।

हालांकि बल्लाकांड के बाद भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय सहित पार्टी को जवाब देना भारी पड़ रहा था। इसी बीच भाजपा की संसदीय दल की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नाराजगी जताते हुए बिना किसी का नाम लिए सभी विधायकों और सांसदों को चेतावनी दी थी। उन्होंने कहा कि राजनीति में अनुशासन होना चाहिए। दुव्र्यवहार करने वाले लोगों को पार्टी से बाहर कर देना चाहिए। ऐसा बर्ताव अस्वीकार्य है। उन्होंने यह भी कहा कि ऐसा करने वाले लोग भले ही किसी के भी बेटे हों, लेकिन उन्हें मनमानी की इजाजत नहीं दी जा सकती।

इधर, कुछ दिन पहले कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी भाजपा नेताओं के कथित तौर पर हिंसक गतिविधियों में शामिल रहने पर ट्वीट कर कटाक्ष किया। उन्होंने लिखा था कि चुनाव जीतकर भाजपा के नेताओं को जनता की सेवा करनी थी, मगर वो कर्मचारियों की पिटाई कर रहे हैं। कोई सत्ता की हनक में बल्ले से पीटता है, तो कोई टोल शुल्क मागने पर फायरिंग कर लाठी डंडे चलाता है। क्या इन लोगों पर सख्त कार्यवाही की संभावना है।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com