Breaking News

पहले पिता को बनाया भिखारी, फिर क्या कंपनी में शामिल करेंगे गौतम सिंघानिया

Posted on: 10 Jan 2019 16:48 by Surbhi Bhawsar
पहले पिता को बनाया भिखारी, फिर क्या कंपनी में शामिल करेंगे गौतम सिंघानिया

रेमंड ग्रुप को खड़ा करने वाले विजयपत सिंघानिया को उनके बेटे गौतम सिंघानिया ने ही दर-दर की ठोकर खाने को मजबूर कर दिया था। दरअसल, बात साल 2015 की है जब विजयपत सिंघानिया ने कंपनी का नियंत्रण और सारे शेयर्स अपने बेटे गौतम सिंघानिया को दे दिए थे। उस समय इन शेयर्स की कीमत 1000 करोड़ रुपये थी। इसके बाद विजयपत ने कहना शुरू किया कि बेटे ने आर्थिक बदहाली की स्थिति में छोड़ दिया है। यहां तक की उनकी गाड़ी और ड्राइवर भी छिन लिए गए हैं।

विजयपत वापस लेंगे बेटे को दी संपत्ति

विजयपत सिंघानिया तीन साल पहले लिए अपने फैसले पर बहुत पछता रहे है। उन्होंने रेमंड ग्रुप के सारे शेयर्स अपने बेटे गौतम को दे दिए थे। यह फैसला लेते समय विजयपत ने यह सोचा भी नहीं था कि उनका बेटा उन्हें न केवल कंपनी के दफ्तरों से बल्कि घर से भी निकाल देगा। इसके बाद अब विजयपत बेटे को गिफ्ट की गई प्रॉपर्टी को वापस लेने की लड़ाई लड़ना चाहते है। विजयपत कोर्ट के उस हालिया आदेश के तहत बेटे के खिलाफ कदम उठाने जा रहे है जिसमें 2007 के कानून के तहत मूलभूत जरूरते पूरी नहीं होने के सूरत में अपने बच्चों को उपहार में दी गई संपत्ति वापस लेने का अधिकार है।

गौतम ने कही यह बात

रेमंड ग्रुप के चेयरमैन गौतम सिंघानिया और उनके पिता विजयपत सिंघानिया के बीच चल रहे विवाद के बीच उन्होंने अपने पिता को साथ रखने की बात कही है। उन्होंने अपने पिता को अपने साथ रहने का भी ऑफर दिया है। इतना ही नहीं गौतम ने रेमंड ग्रुप की सारी कंपनियों के चेयरमैन पद से अलग होने की बात कही है। उन्होंने कहा कि वह अपना बिजनेस नए तरीके से खड़ा करेंगे।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com