Breaking News

रिवेल्यूएशन को डीएवीवी ने बनाया धंधा, स्टूडेंट्स का आरोप

Posted on: 18 May 2018 12:48 by hemlata lovanshi
रिवेल्यूएशन को डीएवीवी ने बनाया धंधा, स्टूडेंट्स का आरोप

इंदौर: श्री अटल बिहारी वाजपेयी गवर्नमेंट आर्ट्स एंड कॉमर्स कॉलेज GACC एमबीए कॉलेज के स्टूडेंट और देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी के कुलपति नरेन्द्र धाकड़ में खींचतान चल रही है। दरअसल जीएसीसी के 38 स्टूडेंट्स को AT-KT मिली है और 13 को जीरो आये है। इसी को लेकर  कुलपति और स्टूडेंट्स के बीच  खींचतान चल रही है। मामले में कुलपति का कहना है कि रिवेल्यूएशन फार्म भरना होगा ज​बकि स्टूडेंट्स का कहना है कि डीएवीवी की गलती का खामियाजा हम क्यों भुगतें। उनका आरोप है कि रिवेल्यूएशन को डीएवीवी में धंधा बना लिया है।  घमासान डॉटकॉम ने स्टूडेंट्स प्रेसीडेंट राजनंदनी जायसवाल से बात की।

 

रिजल्ट में उलझे स्टूडेंट्स
जीएसीसी कॉलेज में MBA के 38 फीसदी स्टूडेंट को AT-KT मिली है। 13 को तो शून्य अंक आए हैं जबकि स्टूडेंट का दावा है उनके पेपर बहुत अच्छे हुए थे। कुलपति ने स्टूडेंट को रिव्यू का फार्म भरने को कहा है। स्टूडेंट का कहना है कि DAVV की गलती वे क्यों भुगते? क्यों बेवजह 1000-1000 रुपये चुकाएं? DAVV ने तो मानो धंधा बना लिया है। पहले फेल करो, फिर रिव्यू में लाखों रुपए कमाओ।

नहीं आ सकते जीरो मार्क्स

जीएसीसी कॉलेज की स्टूडेंंट्स प्रेसीडेंट राजनंदनी जायसवाल ने बताया कि 8 मई को एमबीए का रिजल्ट आया। 38 स्टूडेंट्स को AT-KT आई है। वहीं इसमें 13 से 14 स्टूडेंट्स को जीरो नम्बर आये हैं। जीरो मार्क्स नहीं आ सकते। हमारी मांग है कि इन स्टूडेंट्स की कॉपियां फिर से चेक करें।

अपनी बात से मुकरे कुलपति
राजनंदनी ने बताया कि एमबीए के 38 स्टूडेंट्स डीएवीवी के कुलपति नरेंद्र धाकड़ से मिलने आये थे। काफी समय इंतजार के बाद रिजल्ट को लेकर बात हुई, पर हल नहीं निकला। हमारी मांग है कि कॉपियां चेक कर रिजल्ट फिर से घोषित किया जाये, लेकिन कुलपति ने कहा ऐसा कोई नियम नहीं है, जो लिखा है वहीं मार्क्स आये हैं। आपके पास दो ही रास्ते हैं या तो आप हजार रूपए पेय करें या फिर रिवेल्यूएशन फार्म भरें। हम लोगों ने कहा हजार रुपए हम नहीं दे सकते हैं, गवर्नमेंट कॉलेज के स्टूडेंट्स हैं।

अब हमेें भरासा नहीं
जनसुनवाई में कहा था कि रिजल्ट में सुधार होगा, लेकिन अपनी ही बात से मुकर गये कुलपति । हम लोग चाहते हैं कि आप 5 कॉपियों की स्टैंपलिंग करें यदि कॉपियों में सुधार होता है तो बाकी कॉपियों में भी सुधार करना होगा। कुलपति धाकड़ ने कहा कि 10 दिन बाद जो रिजल्ट आएगा अगर उसमें सुधार होता है तो उसके बाद बताएंगे, क्या करेंगे। हमारी डिमांड है कि यदि आप स्टैंपलिंग करते हैं तो ​मीडिया और हमारी क्लॉस के फेकल्टी भी उपस्थित रहें। अब हमें भरोसा नहीं रहा।

आखिर गलती किस की
डीएवीवी द्वारा घोषित रिजल्ट में जिन स्टूडेंट्स को जीरो मार्क्स मिले हैं,उन्हें ही कॉलेज प्रेक्टिकल में 18 से 19 मार्क्स मिले हैं। उंगली कॉलेज पर उठती है कि जो स्टूडेंट्स मैथ्स में अच्छे नहीं हैं, उन्हें इतने मार्क्स प्रेक्टिकल में कैसे मिले? यदि प्रेक्टिकल में नम्बर मिल सकते हैं तो मेन एग्जाम में जीरो कैसे। आखिर गलती किसकी है। इन सब में स्टूडेंट्स परेशान हो रहे हैं।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com