भोपाल में आज 10 अक्टूबर को पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मीडिया से चर्चा की जिसमे उन्होंने कई मुद्दों पर अपनी बात रखी सबसे पहले उन्होंने यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव जी के निधन पर श्रद्धांजलि दी साथ ही बताया की मुलायम यादव से मेरे बहुत पुराने और निकट सम्बन्ध थे. मुलायम यादव सिर्फ राजनीतिक व्यक्ति नहीं थे, वो एक समाज सेवक थे , मेने उनसे बहुत कुछ सीखा है जब मैं संसदीय कार्यमंत्री था, तब उनसे काफ़ी चर्चा होती थी।कॉन्फ्रेंस में मिडिया ने कांग्रेस के विधायकों पर लगे आरोपों के बारे में सवाल किया था तो पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा की वे नेता प्रतिपक्ष गोविंद सिंह की अध्यक्षता में एक कमेटी बना रहे है, उनकी रिपोर्ट के आधार पर आगे निर्णय लेंगे और उस रिपोर्ट को अनुशासन समिति को सौपेंगे।

महाकाल लोकार्पण को लेकर कही बड़ी बात

कमलनाथ ने महाकाल लोक लोकार्पण को लेकर भी बड़ी बात कही कमलनाथ ने बताया कि भाजपा हर चीज को इवेंट बनाती है, यह एक शासकीय कार्यक्रम है। इसकी नींव हमने रखी थी, भाजपा सिर्फ श्रेय लेने का काम करती है. यह तो फ़ाइलों में प्रमाण के रूप में मौजूद है। पता नहीं अब कब किसान क़र्ज़ माफ़ी का श्रेय लेगी..? लेकिन जनता बहुत समझदार है।जनता को गुमराह करने के लिये यह कभी प्रधानमंत्री को बुला रहे है , धार्मिक आयोजन कर रहे है।

आम आदमी के नेता के बयान को बताया गलत

आम आदमी पार्टी के नेता के पीएम को लेकर बयान को पूर्व मुख्य मंत्री ने गलत बताया है उन्होंने कहा कि इस तरह के बयानो से राजनीति में गिरावटआती है हम एक दूसरे के राजनीतिक विरोधी हो सकते है लेकिन हम दुश्मन नहीं हमारी सरकार बनी तो जितने भी काम अधूरे थे उन्हें हम पूरा करेंगे, श्रीलंका में सीता माता मन्दिर निर्माण , किसान कर्ज माफी जैसे काम करेंगे किसानो को मुआवज़ा देंगे , उनकी फसल बर्बाद हो चुकी है।आज कोई सर्वे करने नहीं जा रहा है।यह किसानो की फसल का नहीं बल्कि उनके भविष्य का नुक़सान है।कारम डैम के फूटने से किसानो की ज़मीन खेती लायक़ नहीं बची है।

बेरोजगारी को लेकर भी की बात

आज हर वर्ग परेशान है, शिक्षकों -बेरोज़गार नौजवानों पर लाठी चार्ज हो रहा है.आज सुखी कौन है , सिर्फ़ भाजपा के नेता और कार्यकर्ता सब माल बटोरने में लगे हुए है।हमारी सरकार में हमने भर्ती की शुरुआत की थी। दिल्ली से भोपाल तक लोगों की आवाज़ दबाने में लगे हुए है। आज भाषा का विवाद हो रहा है।
यह सब पहले कभी नहीं हुआ हमें प्रदेश को सही पटरी पर लाना था , यह चुनौती हमारे सामने थी।

सरकार के नशामुक्ति अभियान को लेकर कसा तंज

पूर्व मुख्य मंत्री कमलनाथ ने अपनी बात जारी रखते हुए कहा कि यह तो खुद नशे में हैं और 11 महीने और रहेंगे, धीरे धीरे खत्म होगा इनका नशा चुनाव के पूर्व इनको नशा याद आ रहा है। शराबबंदी को लेकर प्रदेश में जारी सियासत पर कहा कि हमारी सरकार बनेगी तो युवाओं को शराब के नशे से बचाने के लिये बनाएंगे कमेटी राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव को लेकर कहा कि सब अपनी- अपनी बात रखेंगे