देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गणतंत्र दिवस पर मिस्त्र के राष्ट्रपति अब्देल फतेह अल सीसी को चीफ गेस्ट बनाकर बुलाया है भारत के गणतंत्र दिवस पर यह चीफ गेस्ट बनकर आ रहे हैं। मिस्त्र इस समय कई संकटों से गुजर रहे हैं। कोई भी देश ने उनका साथ नहीं दिया।जब भारत में उनकी मदद की थी गेहूं पर निर्यात पर पाबंदी लगाई गई थी। तब भारत ने उनको गेहूं के टनो की खेप भेजी थी।

अब्देल फतह मिस्त्र के एक बहुत प्रभावशाली नेता मने जाते है। कहां जाता है कि सत्ता पर उनकी पकड़ बहुत मजबूत और प्रभावशाली है। राष्ट्रपति से पहले यह एक मिस्त्र के सेना प्रमुख थे। जिन्होंने मोहम्मद मोर्शी को सत्ता से हटाया था। जो जुलाई 2013 में राष्ट्रपति थे, उसके दूसरे साल अब्दुल फतह मिस्त्र के राष्ट्रपति बने।

Also Read  : सिर्फ एक छात्र को पढ़ाने के लिए खुलता है यह सरकारी स्कूल, जानिए वजह

राष्ट्रपति अब्देल फतेह का जन्म 1954 मैं काहिरा के गमलेया इलाके में हुआ था।उनके पिता फर्नीचर का काम करते थे। और इतना कमा लेते थे, कि उनका परिवार चल जाए बचपन से ही उनका एक ही सपना था। कि वह सेना की तरफ झुके।

सीसी का परिवार इस्लाम को मानने वाला एक धार्मिक और अच्छा परिवार था। 1977 में मिस्त्र ने सैन्य अकादमी में पढ़ाई पूरी की इसके बाद सेना में भर्ती हुए। सीसी बेहद तेज दिमाग के युवा थे।और देखते ही देखते सेना के बड़े बड़े पदों पर पहुंचने लगे।

सीसी को मिस्त्र की सेना हमेशा एक मुस्लिम ब्रदरहुड की नजर से देखते थे।उनका जीवन पूरा सेना में ही व्यतीत हुआ वे भले ही मुस्लिम थे। लेकिन उनको ब्रदर हुड और मुस्लिम को लेकर एक चिढ़ छूटती थी सीसी ने टेलीविजन पर घोषणा की के राष्ट्रपति मोर्सी को पद से हटा दिया गया है। और संविधान को निलंबित कर दिया गया है।उसके बाद सीसी ने एक अंतरिम सरकार की स्थापना की गई ।