Breaking News

पेरिस में ऐतिहासिक नोट्र डाम कैथेड्रल में लगी भीषण आग, गिरजाघर का शिखर टूटा | Fire at Notre Dame Cathedral

Posted on: 16 Apr 2019 17:26 by Surbhi Bhawsar
पेरिस में ऐतिहासिक नोट्र डाम कैथेड्रल में लगी भीषण आग, गिरजाघर का शिखर टूटा | Fire at Notre Dame Cathedral

नीरज राठौर की कलम से

पेरिस का 850 साल पुराना चर्च नोट्रे डेम कैथेड्रल पिछले 15 घंटे से जल रहा था . मेने हाल ही की पेरिस यात्रा में यहाँ 4 घंटे बिठाये थे. इसके जलने की सुचना से सभी हतप्रभ है. सोशल मीडिया पर जो तस्वीरें पोस्ट की जा रहीं हैं उनमें दुनिया भर में मशहूर कैथेड्रल चर्च की छत से धुंआ उठते देखा जा सकता है। फिलहाल आग लगने की खबरों के कारण का पता नहीं चला है। लेकिन जानकारी के मुताबिक आग का कारण गिरिजाघर में चल रहा नवीनीकरण का काम हो सकता है। पैरिस का यह गिरिजाघर 850 साल से भी ज्यादा पुराना है।

दमकलकर्मियों ने 15 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर पूरी तरह काबू पा लिया। अधिकारियों का कहना है कि 850 साल पुरानी इस इमारत का मूल ढांचा अभी सही सलामत है। कैथेड्रल के दो बेल टॉवर भी सुरक्षित हैं। हालांकि, इमारत के अंदर आर्टवर्क को कितना नुकसान हुआ यह अभी साफ नहीं है। इसी बीच फ्रांस के सबसे अमीर बिजनेसमैन अरनॉल्ट एलवीएमएच ने नोट्रे डेम के पुनर्निर्माण के लिए 20 करोड़ यूरोज (करीब 1500 करोड़ रुपए) देने का वादा किया है। इसके अलावा हॉलीवुड एक्ट्रेस सलमा हाएक के पति फ्रंसिस हेनरी पिनॉल्ट ने भी 10 करोड़ यूरोज (करीब 786 करोड़ रु.) चंदा देने का ऐलान किया। मैक्रों कर चुके हैं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चंदा जुटाने का वादा जो की अच्छा प्रयास है।

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने इसे दुखद घटना बताया। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि दमकलकर्मियों ने कैथेड्रल को और ज्यादा बुरी स्थिति में पहुंचने से बचा लिया। मैक्रों ने कैथेड्रल बनाने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर फंड जुटाने का भी वादा किया। इसके फिर से निर्माण में 5000 करोड़ रूपये खर्च हो सकते है।

बताया जा रहा है कि कैथेड्रल के पत्थरों में क्रैक आने के बाद इसका रेनोवेशन किया जा रहा था। अधिकारी आग लगने की घटना को रेनोवेशन से ही जोड़कर देख रहे हैं। नोट्रे डेम का निर्माण 1160 से शुरू हुआ था, जो कि 1260 तक चला। फ्रेंच गॉथिक आर्किटेक्ट का यह नायाब नमूना 69 मीटर ऊंचा है। इसके शिखर तक पहुंचने के लिए 387 सीढि़यां चढ़नी पड़ती है। यहां नेपोलियन बोनापार्ट का राज्याभिषेक किया गया था। हर साल इसे देखने 1.2 करोड़ लोग आते हैं।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com