Breaking News

आज का आयोजन कालजयी समागम हो गया है| Mithilesh Dikshit  

Posted on: 04 Mar 2019 13:01 by Ravindra Singh Rana
आज का आयोजन कालजयी समागम हो गया है| Mithilesh Dikshit  

पूरे देश की प्रसिद्ध लघु कथा कार डॉ मिथिलेश दीक्षित ने कहा अखिल भारतीय महिला साहित्य समागम (Akhil Bharatiya Mahila Sahitya Samagam) इंदौर के दूसरे सत्र में बोलते हुए प्रसिद्ध लेखिका मिथिलेश दीक्षित ने कहा कि आज का आयोजन कालजई आयोजन हो गया है।

पूरे भारत में इस आयोजन की चर्चा होगी और वह लखनऊ में जाकर भी इस गरिमा पूर्ण कार्यक्रम की चर्चा करेंगी इस आयोजन के लिए उन्होंने वामा साहित्य मंच तथा घमासान डॉट कॉम को बधाई दी लेखन में महिला पुरुषों का अंतर करना बेहद गलत है लेकिन सिर्फ लेखन होता है पुरुष करें या महिला पहले नारियों का स्थान घर में था।

Akhil Bharaiy Mahila Sahity Samagam-indore

लेकिन अब वह मुखर होकर बहुत अच्छा लेखन कर रही है पुरुषों में जो आज लेखन की क्षमता आई है उस की प्रेरणा भी नारी ही है समाज महिला के सम्मान और गरिमा को हमेशा महत्त्व देता आया है। महिलाओं के बिना आज समाज के किसी भी क्षेत्र की कल्पना भी नहीं की जा सकती।

लघु कथा में नारी पात्र के सकारात्मक योगदान को लेकर आज बात चल रही है महिलाएं आज लघु कथा के क्षेत्र में जो काम कर रही हैं वह बेहद सराहनीय है उन के माध्यम से समाज के परिवार की विसंगतियां सामने आ रही है महिला लेखन का एक तेवर आज हमारे सामने दिख रहा है।

Akhil Bharaiy Mahila Sahity Samagam-indore

विश्व का जो सारा साहित्य है वह आज महिला लेखन से ही समृद्ध हो रहा है। महिला लेखन के बिना साहित्य की कल्पना नहीं की जा सकती विकसित और विकासशील देशों की बढ़ती हुई समस्याओं को लेकर भी बहुत अच्छा लेखन महिला लेखिका ओं द्वारा व्यक्त किया गया है।

सोशल मीडिया का महत्व दिनों दिन बढ़ता जा रहा है सोशल मीडिया के माध्यम से महिला लेखन को एक नई ऊंचाई मिली है लेकिन इसके साथ ही यह ध्यान रखना होगा कि भाषा की गरिमा कम ना हो।

Read More:- अखिल भारतीय महिला साहित्य समागम आज से

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com