पूजा-पाठ के नाम पर जालसाजी कर, लोगों से रूपयें ऐंठने वाले वाले अन्तर्राज्यीय जालसाज, पुलिस की गिरफ्त में

0
37

इन्दौर- शहर मे लोगों के साथ भिन्न-भिन्न तरीके से धोखाधडी व जालसाजी कर लोगों को ठगने वाले गिरोह के विरूद्ध प्रभावी व सखत कार्यवाही कर, इन घटनाओं पर अंकुश लगाने के निर्देश, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक इन्दौर रुचि वर्धन मिश्र द्वारा इन्दौर पुलिस को दिये गये है। उक्त निर्देशों के तारतम्य में पुलिस अधीक्षक इन्दौर (पूर्व) युसुफ कुरैशी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (पूर्व) जोन-03 प्रशान्त चैबे एवं नगर पुलिस अधीक्षक आजाद नगर सत्येन्द्र सिंह तोमर के मार्गदर्शन में कार्यवाही करते हुए, पुलिस थाना राऊ द्वारा पूजा-पाठ के नाम पर लोगों को ठगने वाले, एक अन्तर्राज्यीय गिरोह का पर्दाफाश करने में सफलता प्राप्त हुई है।

दिनांक 17.06.2019 को देर रात सूचनाकर्ता रमन शर्मा द्वारा डायल-100 पर अपने साथ 02 लाख रुपये की लूट होने की घटना कि सूचना दी गई थी। उक्त सूचना पर मामले की गंभीरता को देखते हुए थाना प्रभारी राऊ दिनेश वर्मा व हमराह बल के साथ ओयो सरताज होटल एबी रोड राऊ पहुंचे और वहां पर सूचनाकर्ता रमन शर्मा से सखती से पूछताछ करने पर उसके द्वारा बताया गया कि वह फर्नीचर का व्यापारी तथा कानपुर का रहने वाला है उसके साथ अमरदीप गुरु, अतुल, संजय उर्फ मिन्टु पूजा के लिए आये है। उनके कमरे की चैकिंग करने पर उनके पास पूजापाठ के सामान व नगदी 01 लाख रुपये मिलें। पूछताछ व जांच पर उनके साथ कोई लूटकी घटना घटित नही होना पायी गयी, वरन सूचनाकर्ता व उनके साथी ही जालसाज निकले, जिनके द्वारा फरियादी मनोज पाल पिता मोहन लाल पाल उम्र 40 साल निवासी कोरलरिफ अपार्टमेंट गुरुकृपा होटल के पास एबी. रोड राऊ से व्यापार मे घाटा पूर्ति हेतू पूजा-पाठ के नाम से 01 लाख रुपये नगदी एठने का मामला सामने आया।

प्रकरण के फरियादी मनोज पाल पिता मोहन लाल पाल उम्र 40 साल निवासी कोरलरिफ अपार्टमेंट गुरुकृपा होटल के पास एबी रोड़ ने थाने पर रिपोर्ट की थी कि, मेरी महाराजा काम्पलेक्स में कास्मेटिक की दुकान है जिसमें पिछले 6-7 माह से घाटा चल रहा था जिस कारण मै काफी परेशान था, इसी सिलसिले में तीन चार दिन पहले मेरे पुराने परिचित रमन शर्मा निवासी लुधियाना पंजाव से वातचीत हुई थी जिन्होने वोला था हमारे गुरु अमरदीप जी है जो पूजा-पाठ करते है, आपकी दुकान में पूजा करवा देगे तो आपका घाटा पूरा हो जायेगा और व्यापार अच्छा चलेगा। तो मेने रमन शर्मा को वोला कि गुरु अमरदीप को कब लेकर इंदौर आ रहे हो तो रमन शर्मा ने वोला कि पूजा की सामग्री हेतु एक लाख रुपये की व्यवस्था रखना हम लोग दो एक दिन में आ जायेगे।

कल दिंनाक 17.06.19 को रमन शर्मा का मेरे मोबाईल पर फोन आया कि, मैं इंदोर आ गया हूं, मेरे साथ मेरे दोस्त अमरदीप गुरू, अतुल व्दिवेदी, संजय उर्फ मिन्टु है, हमारें रुकने के लिये कमरा बुक करा दो, तो मैंने ओयो सरताज होटल एबी रोड राऊ में दो कमरे – कमरा न, 101.106 बुक करा दिये। यह चारो लोग रात्रि 8 बजे करीब होटल में आ गये, उसके बाद रमन शर्मा ने मुझे फोन करके होटल में बुलाया तो में तथा कपिल भिलवारे सरताज होटल राऊ गया। रमन शर्मा ने बोला कि अमरदीप जी हमारे गुरु है, यह आपकी दुकान में पूजा करके सारे दुख दर्द दूर कर देगे व आपके अच्छे दिन शुरु हो जायेगे, पूजा के लिये आपको एक लाख रुपये देना होगें इस पर मैने अपने पास रखे एक लाख रुपये कपिल के सामने रमन शर्मा व अमरदीप गुरु को दिये, इनके साथ में अतुल व संजय उर्फ मिन्टु भी थे। करीब आध घंटे के बाद अमरदीप गुरु, रमन शर्मा ,अतुल, संजय उर्फ मिन्टु ने वोला कि आज पूजा नही हो पायेगी, रात हो गई है तो पूजा कल करेगें। इस पर फरियादी ने अपने रुपये वापस मांगे तो, अमरदीप गुरु, रमन शर्मा ने बोला कि हमने पूजा का सामान खरीद लिया है रुपये वापस नही देगें, कल हम चारो लोग आपके यहा पर पूजा कर देगें। मैने व कपिलने बोला कि अभी हमारे रुपये वापस कर दो सुबह वापस दे देगें इस पर अमरदीप गुरु ,रमनशर्मा ,अतुल द्विवेदी तथा संजय उर्फ मिन्टु ने हमारे साथ गाली-गलौच की व चारो ने मुझे व कपिल को लात घूसो से मारपीट की।

फरियादी की रिपोर्ट पर अपराध कायम किया गया, मामले की गंभीरता को देखते हुए थाना प्रभारी दिनेश वर्मा व टीम द्वारा तत्काल प्रकरण के आरोपी 1-अमरदीप पिता दिनेन्दर निवासी चरखी दादरी इमलोटा भिवाणी हरियाणा, 2- रमन शर्मा पिता कंसराज शर्मा निवासी हाऊस नंबर 5405 ध्18 गली नंबर 05 वार्ड नंबर 963 रविन्द्र कालोनी शिमला पुरी मिल्हारगंज लुधियाना पंजाब, 3-अतुल द्विवेदी पिता त्रिभिवन निवासी केशवरामपुरा मौजारामदासपुर थाना कोलागढ इलाहाबाद तथा 4-सजय उर्फ मिन्टू पिता मंगल प्रसाद निवासी बोसगंज थाना मुसानगर कानपुर उ.प्र. को गिरफ्तार किया गया एवं उनके कब्जे से जलासाजी के 01 लाख रूपये बरामद किए गए।

प्रकरण में गौर करने वाली बात है कि, आरोपीगण ने फरियादी के साथ जालसाजी कर, उससे रूपये ऐंठ लिये थे और पुलिस को गुमराह करने के लिये उल्टे खुद के साथ ही लूट होने की घटना की झूठी सूचना पुलिस को दी गयी थी। लेकिन पुलिस की सक्रियता व सूझबूझ के कारण आरोपी पुलिस की गिरफ्त में आ गये। आरोपियों ने इस तरह और कितने लोगों के साथ जालसाजी की है, इस संबंध में पुलिस द्वारा पूछताछ की जा रही है।

उक्त कार्यवाही में वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी दिनेश वर्मा, सउनि महेश श्रीवास्तव, प्रआर 2598 महेन्द्र राजपूत, आर.315 अजय चैहान, आर 3285 सुरेश लश्करी का विशेष योगदान रहा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here