इन्दौर : इन दिनों शहर में लगातार ठगी की वारदातें सामने आ रही है। इसी कड़ी में आज एक फोन काल पर संज्ञान लेने से एडवाईजरी का पर्दाफाश हुआ है। जी हाँ, जानकरी के मुताबिक इंदौर में आज ऑनलाईन फ्राड, फर्जी एडवाईजरी कंपनी संचालित कर दोगुना मुनाफा का लालच देकर निवेश कराकर लोगो से धोखाधडी करनें वालें आरोपियों के विरूद्ध प्रभावी कार्यवाही करने के निर्देश पुलिस आयुक्त इन्दौर नगरीय हरिनारायणचारी मिश्र एवं अतिरिक्त पुलिस आयुक्त इन्दौर नगरीय मनीष कपूरिया द्वारा निर्देशित किया गया है।

उक्त निर्देशों के तारतम्य में पुलिस उपायुक्त झोन -01 अमित तोलानी एवं अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त जोन- 01 जयवीर सिंह भदौरिया के मार्गदर्शन में सहायक पुलिस आयुक्त गाधी नगर सौम्या जैन द्वारा दिनांक 15.04.2022 को आवेदक रायफल मैन सौरभ कुमार मिश्रा 19 वी आसाम रायफल अ कम्पनी ने एक हस्तलिखित शिकायत आवेदन थाने के ई – मेल के माध्यम से प्राप्त हुआ आवेदन पत्र के अवलोकन से दिनांक 10 फरवरी 2022 को आवेदक के पास काव्या नाम की लड़की का फोन आया और दादाजी ट्रेडर्स निजी कंसलेट्स कंपनी पैसे निवेश करने के बारे में बताया और अच्छा मुनाफा लेने के लिए कहा।

दिनांक 11 फरवरी 2022 को आवेदक से खाता नंबर 50200063824980, 921020034657425 व खाता नंबर 57720200001443 खाते में कुल 3,78,000 रुपये निवेश के नाम पर प्राप्त कर लिये व फोन बंद कर लिया। आवेदक की शिकायत पर से थाना राऊ पर अपराध क्रमांक 311/2022 धारा 420, 409 120 बी 34, 467, 468 भादवि एवं धारा 6 म.प्र . निक्षेपकों के हितो का संरक्षण अधिनियम 2000 का पंजीबध्द किया जाकर विवेचना में लिया गया। पुलिस थाना राऊ द्वारा तुरन्त कार्यवाही करते हुए 14 आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया था। एडवायजरी फर्म को संचालित करने वाले चारो सरगना पूजा थापा, पवन तिवारी, प्रकाश भट्ट, विशाल जायसवाल को गिरफ्तार किया गया है।

यह भी पढ़े : गर्मी ने किया हाल-बेहाल, इस तरह करें ‘लू’ से बचाव

इसी कड़ी में मुख्य सरगना पुजा थापा उर्फ आशी उर्फ शैफाली पिता तिल बहादुर थापा उम्र 33 साल निवासी विकास नगर देवास हाल 310 शेखर प्लेनेट्स थाना विजय नगर जिला इन्दौर ने दिनांक 27.04 2022 को कोर्ट में सरेण्डर किया था। जिसका माननीय न्यायालय से पुलिस थाना राऊ द्वारा पीआर लिया गया था, मुख्य सरगना पूजा उर्फ आशी उर्फ शैलाफी बागर का मेमोरेण्डम तैयार किया गया जिसने अपने मेमोरेण्डम में बताया कि उसके द्वारा 13,000 स्केयर फिट का फार्म हाउस पाताल पानी महू मे, ओमेक्सी सिटी देवास बायपास पर 1000 स्केयर फिट का प्लाट, नगदी, 07 लाख 15 हजार रुपये, एक महेन्द्र कंपनी की एक्सयुवी 5000 कंपनी की गाडी एडवाईजरी कंपनी के पैसों से खरीदी गई थी। पूजा थापा द्वारा एयु बैंक में लाकर ले रखा था जिसे पुलिस द्वारा चैक करने पर सोने के हार, सोने के मंगलसूत्र, सोने के कंगन, कान के टाप्स एवं अन्य सोने की ज्वैलरी लाकर मे छुपा रखी थी जिसे पूजा थापा से जप्त की गई।पूजा थाना के विरुध्द फर्जी एडवाईजरी का प्रकरण पंजीबध्द होने की सूचना फर्जी एडवाईजरी कंपनी के मुख्य आरोपी पवन द्वारा पूजा थापा को दी गई थी। उस समय पूजा थापा गोवा मे मौज मस्ती कर रही थी, जो सीधे इन्दौर न आकर बैगलुरु, पुना, भोपाल के आसपास पुलिस से बचने के लिए घुमती रही। पूजा थापा द्वारा पुलिस की गिरफ्तारी से बचने के लिए दिल्ली मे स्थित सुप्रीम कोर्ट में वकीलो से सम्पर्क किया गया था। मुख्य आरोपिया पूजा थाना उर्फ आशी उर्फ शैफाली बागर द्वारा मौज मस्ती के लिए अपनी फर्जी एडवाईजरी कंपनी के आरोपी पवन तिवारी विशाल जयसवाल एवं प्रकाश भट्ट द्वारा पाताल पानी महू मे एक 13,000 स्केयर फिट का फार्म हाउस बना कर रखा है जहा पर फर्जी एडवाईजरी कंपनी के सदस्य मौज मस्ती के लिए आते थे।

आरोपियो द्वारा मुख्यताः ग्राम भगोरा महू जिला इन्दौर में स्थित आईसीआईसीआई बैंक के खाता नंबर 291201001732 जीवन वर्मा निवासी भगोरा, 291201001744 – रीबुराज डोरिया निवासी भगोरा 2910201001746 – मोहित बारोड निवासी भगोरा, 291201001745 – संदीप चौहान निवासी भगोरा एक्सीस बैंक का खाता नंबर 921020034657425 विजय बघेल महू एव्हाय ट्रेडर्स के खाता नंबर 50200063824980, श्री दादाजी ट्रेडर्स के खाता नंबर 921020034657425 उपयोग किया गया था। जिसने लाखो रुपये ट्राजेक्शन होना पाया गया संबंधित बैंको को उक्त खातों के संबंध में पत्राचार कर उन्हें डेबिट स्विच पुलिस थाना राऊ द्वारा करवाया गया है एवं उनके केवाईसी प्राप्त की गई है।

प्रकरण की विवेचना के दौरान अब तक उक्त आरोपियों के कब्जे से नगदी 35,13,800 रुपये नगदी, 25 एनड्राईड मोबाईल 10 लेपटाप, 04 गाडिया, प्लाट, फ्लेट्स, लगभग 10 लाख रुपये ज्वेलरी इम्पोटेड घडिया. 50 से ज्यादा क्रेडिट कार्ड एवं डेबिट कार्ड जप्त किये गये तथा इनके खातो से लगभग 05 करोड का ट्रांजेक्शन होना पाया गया। उक्त आरोपी अपनी लाईफ स्टाईल लग्जरी तरीके से जीते थे लगभग 1 करोड़ 25 लाख रुपये से ज्यादा की संपत्ति जप्त की गई है एवं 24 खाते को फ्रीज कराये गये है जिसका विश्लेषण किया जा रहा है।

यह भी पढ़े : इंदौर छावनी मंडी में नए-पुराने चने की भरपूर आवक, जानें आज का भाव

विवेचना के दौरान अब तक आये डेटा के आधार पर लगभग 50 पीडितो से सम्पर्क किया गया है और उन्हें संबंधित पुलिस थानों में शिकायत दर्ज करवाये हेतु बताया गया है जो कि कर्नाटका बंगलुरु गोवा महाराष्ट्र पश्चिम बंगाल तेलागाना आध्र प्रदेश के होना पाये गये है। फर्जी एडवाईजरी कंपनी को डेटा उपलब्ध कराने वाला अमित बर्फा को भी पुलिस थाना राऊ द्वारा गिरफ्तार किया गया है, उक्त आरोपी गुगल एड के माध्यम से डेटा उपलब्ध करवाता था। जिसके द्वारा बताया गया कि गुगल एड पर जाकर फर्जी एडवायजरी कंपनी का एड फेसबुक, यु टुयुब शेयर मार्केट की साईड, आदि पर चलाता था भोले भाले लोग एड को देखकर उस पर क्लीक कर देते थे। जो सामने वाले व्यक्ति का डेटा जैसे नाम, मोबाईल नंबर आदि जानकारी भरने का आप्शन आता था जिसे भरने पर सारी जानकारी अमित बर्फा के पास आ जाती थी। जिसे वहा फर्जी एडवाईजरी कंपनी को उपलब्ध करवाता था। अमित बर्फा के मोबाईल एवं लेपटाप का डेटा चैक करने पर उसके द्वारा 18 अलग अलग एडवाईजरी कंपनी के डेटा उपलब्ध करवाता था।

उक्त डाटा उपलब्ध करवाने के लिए अमित बर्फा को 15 प्रतिशत का कमीशन मिलता था। अमित बर्फा द्वारा उक्त डेटा सेबी रिजिस्टर्ड कंपनी को ही उपलब्ध कराया जाना था लेकिन कमीशन के लालच में उसने पूजा थापा, पवन तिवारी की फर्जी एडवायजरी कंपनी को डेटा दिया और अपराध कराने में सहयोग दिया गया है। अमित बर्फा से 04 लाख 11 हजार रुपये नगद व सोने चादी की ज्वेलरी जप्त की गई है । पुलिस थाना राऊ द्वारा और भी फर्जी एडवाईजरी कंपनियों का खुलासा आगामी दिनों में करने वाली है।

यह भी पढ़े : IDA की 230 करोड़ की जमीन पर हुआ अवैध कब्जा, भाजपा नेता उदावत ने लिखा पत्र

उक्त एडवाईजरी कंपनी पर पुलिस थाना राऊ द्वारा कार्यवाही करने पर सौरभ कुमार मिश्रा 19 वी आसाम रायफल अ कम्पनी द्वारा असम से बेंगलुरु से वोणी गोपाल अप्पा, अरसद आलम ने बेंगलुरू से एवं असफ ने सिकन्दरा तेलंगना से आभार व्यक्त किया गया । वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशानुसार उनके मार्गदर्शन में टीम द्वारा बड़ी मेहनत व लगन से कार्य करते आरोपी को गिरफ्तार किया गया आरोपीयों की गिरफ्तारी में थाना प्रभारी राऊ निरीक्षक नरेन्द्र सिंह रघुवंशी उनि कुवर सिह बामनिया, उनि रामेश्वर बामनिया , सउनि रमेश किराडे , सउनि दारा सिंह मुजाल्दे, सउनि मनोहर सोलंकी, प्रआर 43 मुलायम की सराहनीय भूमिका रही।