Breaking News

जीएसटी से निर्यातक संकट में, बेरोजगारी और बढ़ेगी ,वरिष्ठ पत्रकार अशोक वानखेड़े की टिप्पणी

Posted on: 28 May 2018 06:24 by krishna chandrawat
जीएसटी से निर्यातक संकट में, बेरोजगारी और बढ़ेगी ,वरिष्ठ पत्रकार अशोक वानखेड़े की टिप्पणी

गुड्स एंड सर्विसिज टैक्स [ जीएसटी ] मोदी सरकार ने 1 जुलाई 2017 को लागु किया था, अन्य देशो की तरह इसे भारत में इसलिए शुरू किया गया था, ताकि किसी भी सामान और सेवा पर वहीँ कर लगेगा जहां पर वहा बिकेगा।

जीएसटी को जुलाई में एक साल होने वाला है, लेकिन आज भी कई व्यापारी और निर्यातक इससे होने वाली परेशानियों का सामना कर रहे है।

सबसे ज्यादा दिक्क़ते टैक्स जमा करने के बाद निर्यातकों को हो रही है, उनके हजारो करोडो के जीएसटी रिफंड के क्लेम अटके पड़े है, और जो क्लेम पास हो भी गए है, उसका रिफंड उन्हें अभी तक नहीं मिला है।

आपको बता दे रिफंड के नहीं मिलने से निर्यातकों के पास वर्किंग कैपिटल की कमी हो गई है, जिसके चलते कई यूनिट बंद भी करनी पड़ी है और कुछ बंद होने की कगार पर है।

अगर ऐसा ही चलता रहा तो देश में बेरोजगारी का स्तर बढ़ता चला जाएगा, आखिर सरकार निर्यातकों को रिफंड क्यों नहीं दे रही है, क्या सरकार के पास पैसे की कमी है ? क्या सरकार केवल घोषणाओं पर ही चलेगी ? ऐसे और भी सवालों के जवाब जानने के लिए देखिए वरिष्ठ पत्रकार अशोक वानखेड़े की टिप्पणी ।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com