कभी एक मैच के मिलते थे 200 रुपए, ड्राइवर के बेटे ने ऐसे बनाई टीम इंडिया में जगह

0
120

भारतीय टीम 3 अगस्त को वेस्ट इंडिज दौरे के लिए रवाना हो जाएगी। जिसके लिए टीम का चयन रविवार का ही हो चुका है। वहीं टीम में इस बार एक ऐसे खिलाड़ी को मौका दिया गया है। जो कि बेहद तंग हालत से निकलकर सफलता के अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट के पायदान पर पंहुचे हैं। इस खिलाड़ी का नाम नवदीप सैनी है।

बता दे कि 26 वर्षीय सैनी तेज गेंदबाज हैं और 150 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से गेंद डालते हैं। दरअसल, नवदीप सैनी एक एक निम्न मध्यमवर्गीय परिवार से आते हैं। नवदीप के लिए इस मुकाम तक पंहुचना आसान नहीं था। एक ऐसा भी वक्त था जब उन्हे उन्हें मैच खेलने के लिए मात्र 200 रु. मिला करते थे। नवदीप के पिता सरकारी ड्रादवर थे फिर भी उन्होने सैनी को क्रिकेट खेलने से कभी रोका।

नवदीप सैनी का सफर संघर्षमय रहा है। साल 2013 तक उन्होने लेदर की गेंद से क्रिकेट नहीं खेला था। वह करनाल के लोकल टूर्नामेंट में टेनिस गेंद से क्रिकेट खेला करते थे। जहां उन्हे एक क्रिकेट मैच के मात्र 200 रुपए ही मिलते थे।

टाईम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार करनाल प्रीमियर लीग के दौरान पूर्व गेंदबाज सुमित नरवाल ने नवदीप की गेंदबाजी से काफी प्रभावित हुए थे और नवदीप को दिल्ली में गौतम गंभीर के सामने नेट प्रैक्टिस कराई। नवदीप ने अपनी गेंदबाजी से गौतम गंभीर को अपना मुरीद बना लिया था जिसके बाद गंभीर ने उन्हे रोज नेट प्रैक्टिस के लिए आने को कहा था। जिसके बाद गंभीर ने उन्हे सपोर्ट किया और दिल्ली रणजी टीम में सिलेक्ट किया। उस वक्त गौतम गंभीर दिल्ली की टीम के कप्तान थे।

जिसके बाद सैनी को आईपीएल में विराट कोहली की कप्तानी वाली रॉयल चैलेंजर बैंगलोर में मौका मिला। यहां भी उन्होंने अपनी धारदार गेंदबाजी से सबको प्रभावित किया। अब वह वेस्ट इंडिस के खिलाफ खेले जा रहे मुकाबले में नजर आएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here