आज भी जिंदा है सोना पत्ती की परंपरा

0
47

माना जाता है रावण दहन  के बाद सोना पत्ती देकर अपने बड़े बुजुर्गों से आशीर्वाद लिया जाता है और उपहार में उन्हें कुछ पैसे या गिफ्ट बड़ो की तरफ से मिलते है

via

यह प्रथा बहुत परानी व अधिक  प्रचलीत है शहरों के साथ गाँव के लोग भी इस परंपरा को बखूवी निभाते है कहा जाता है कि इस दिन बड़ो के आशीर्वाद से धन ओर सुख समृद्धि की प्राप्ति होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here