जारी हुई आर्थिक एवं सामाजिक समावेशिता सूची, 113 समृद्ध शहरों में दिल्ली-बंगलूरू-मुंबई शामिल

0
22
India Gate

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली, मुंबई और बंगलूरू सहित तीन शहरों को आर्थिक समृद्धि के साथ समाज तक उसका लाभ पहुंचाने के मामले में वैश्विक सूची में शामिल किया गया है। बता दे कि स्पेन के बिल्बाओ में गुरूवार को आर्थिक एवं सामाजिक समावेशिता सूची की गई है। विश्व के 113 शहरों की इस सूची में मुंबई का नाम भी शामिल है।

बताया जा रहा है कि यह सूचकांक के जरिए किसी शहर के आर्थिक विकास सहित इस विकास की गुणवत्ता और जनसंख्या के बीच इसके वितरण को भी दर्शाया जाता है। मालूम हो इस सूचकांक में शामिल तीन भारतीय शहरों में सबसे आगे बंगलूरू है, जो 83वें स्थान पर है। जबकि दिल्ली और मुंबई क्रमशः 101वें और 107वें स्थान पर है।

बिस्के की क्षेत्रीय परिषद में सामरिक कार्यक्रम के निदेशक असियर एलिया कास्टानोस ने बताया कि ये पहली गैर वाणिज्यिक रैंकिंग है, जिसके जरिए आर्थिक उत्पादकता के नए उपाय बताए जाते है। ये जीडीपी से परे की बात है। इस सूचकांक का उद्देश्य समग्र तौर पर इस बात का पता लगाया जाता है कि अर्थव्यवस्था में लोगों की स्थिति क्या हैं। अब सरकारें भी समझने लगी हैं कि समृद्धि का पता लगाने के दौरान नौकरियों, दक्षता और आय के अलावा स्वास्थ्य, आवासीय सामर्थ्य और जीवन की गुणवत्ता को भी ध्यान में रखा जाना चाहिए।

इसके अलावा रिपोर्ट में कहा गया है कि विश्व के सबसे अमीर शहरों में आर्थिक विकास की असमानता काफी ज्यादा रहने के के कारण इन शहरों में निवासरत नागरिकों तक समावेशी विकास नहीं पहुंचा है और वे लिस्ट में काफी पिछले स्थान पर है।

समावेशी विकास में भारत से आगे चीन-पाक

समावेशी विकास सूचकांक में भारत उभरती अर्थव्यवस्थाओं में 62वें पायदान पर रखा गया है। वहीं इस सूची में चीन 26वें और पाकिस्तान 47वें स्थान पर है। बता दे कि इस सूचकांक में रहन-सहन का स्तर, पर्यावरण की दृष्टि से टिकाऊपन और भविष्य की पीढ़ियों को कर्ज के बोझ से संरक्षण देने से संबंधित पहलुओं को स्थान दिया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here