Breaking News

पहली बार दिल के आॅपरेशन के तीन दिन में ही नन्हे आरिश को मिली छुट्टी

Posted on: 18 May 2018 06:49 by hemlata lovanshi
पहली बार दिल के आॅपरेशन के  तीन दिन में ही  नन्हे आरिश को मिली छुट्टी

इंदौर: शहर के हृदय रोग विशेषज्ञ डॉक्टर विनीत पांडे ने कई हार्ट सर्जरी की लेकिन हाल ही उन्होंने एक ऐसी सफल हार्ट सर्जरी की जो उनके लिए भी बेहत खास रही। 1 साल का नन्हा आरिश हार्ट सर्जरी के तीन दिन बाद ही हॉस्पिटल से पूरी तरह स्वस्थ्य होकर डिस्चार्ज हो गया। डॉक्टर विनीत ने बताया कि यह मेरे लिए आश्चर्य ही है, शायद यह ​नेशनल रिकार्ड हो सकती है क्योंकि ओपन हार्ट सर्जरी के बाद इतने जल्दी मरीज का रिकवर होना संभव नहीं है।
आईए आप सभी को घमासान डॉटकॉम डॉक्टर विनीत की जुबानी बता रहा है इस अनोखी हार्ट सर्जरी के बारे में।

dr.vineet2

चार हजार से ज्यादा सर्जरी कर चुके हृदय रोग विशेषज्ञ डॉक्टर विनीत पांडे ने बताया कि फतेहाबाद के गांव से एक साल का आरिश दिल में छेद लिए अपने माता-पिता के साथ सर्जरी के लिए इंदौर आया। राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत हुई ओपन हार्ट सर्जरी ग्रेटर कैलाश हॉस्पिटल में हुई। साढ़े आठ किलो के आरिश का पहला ऐसा ऑपरेशन था जिसमें जीरो ब्लड से ही काम हो गया।
अमूमन हार्ट के मरीज को ब्लड ट्रांसफर करना ही पड़ता है। यह मेरे लिए अनूठा और जटिल ऑपरेशन था। ऑपरेशन के बाद ही बॉडी के सारे पैरामीटर नॉर्मल थे। तीन दिन बाद ही डिस्चार्ज कर दिया।

vineet

नेशनल रिकार्ड हो सकती है सर्जरी
हार्ट के मरीजों को 24 से 48 घंटे वेंटिलेटर पर रखा जाता है, 4 दिन आईसीयू में और 4 से 5 दिन वार्ड में रखा जाता है। आरिश का आॅपरेशन कर दिल के छेद को दुरुस्त किया वहीं 3 दिन में ही डिस्चार्ज कर दिय गया। आरिश की बीमारी हजार में से एक बच्चें को होती है जो काफी जटिल बीमारी है। छह से सात घंटे में हुइ सफल सर्जरी। छेद होने के कारण बॉडी में रक्त कम मिल रहा था। ऑपरेशन के बाद एकदम नॉर्मल हो गया। वेंटिलेटर पर न रखकर आईसीयू में रखा। इसके बाद वॉर्ड में शिफ्ट कर दिया गया। ऑपरेशन के पहले ऑक्सीजन सरकुलेशन 75% था जबकि ऑपरेशन के बाद 100 प्रतिशत हो गया जो नॉर्मल पैरामीटर में आता है । यह ओपन हार्ट सर्जरी शायद नेशनल रिकॉर्ड ही हो सकती है। पहला ऐसा ऑपरेशन है मरीज तीन दिन में डिस्चार्ज हो गया।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com