Breaking News

मानव सेवा के लिए डॉ तपन कुमार लाहिरी ने ठुकरा दिए बड़े-बड़े ऑफर | Dr. Tapan Kumar Lahiri rejected ‘big offers’ for Human Service

Posted on: 22 Apr 2019 18:29 by Surbhi Bhawsar
मानव सेवा के लिए डॉ तपन कुमार लाहिरी ने ठुकरा दिए बड़े-बड़े ऑफर | Dr. Tapan Kumar Lahiri rejected ‘big offers’ for Human Service

नीरज राठौर की कलम से

ये तस्वीर है डॉ तपन कुमार लाहिरी की। डॉ लाहिरी बीएचयू मेडिकल कॉलेज में कार्डियोथोरेसिक सर्जन हैं। कोलकाता में जन्मे डॉ लाहिरी ने अमेरिका से डॉक्टरी की पढ़ाई करने के बाद 1974 में बीएचयू में लेक्चरर के तौर पर पढ़ाना शुरू किया। काम के पैशन के चलते डॉ लाहिरी ने शादी नहीं की। 1997 में उनकी सैलरी भत्तों के साथ 1 लाख से ऊपर थी। उसी समय उन्होंने फैसला लिया कि वह अब सैलरी नहीं लेंगे।

2003 में रिटायर हुए तो अपना पेंशन और पीएफ का पैसा भी बीएचयू के मरीजों के लिए दे दिया। रिटायरमेंट के बाद डॉ लाहिरी को अमेरिका के कई अस्पतालों से बढ़िया पैकेज के साथ आफर मिले। लेकिन डॉ लाहिरी ने बीएचयू में ही मरीजों का इलाज करते रहने का फैसला लिया और वह भी सिर्फ आवास के बदले। अपनी पेंशन से भी वह सिर्फ खाने का खर्च लेते हैं और बाकी की मरीजों के लिए बीएचयू को दे देते हैं। बीएचयू में डॉ लाहिरी सुबह शाम 3-3 घण्टे मरीजों को देखते हैं।
इनकी सेवाओं के लिए 2016 में इन्हें पद्मश्री सम्मान दिया गया गया था।

लेकिन इनका व्यक्तित्व सिर्फ इतना नहीं है। पिछले साल इन्होंने वह किया जिसकी किसी ने कल्पना भी न की थी। आज के समय में जबकि अधिकतर लोग सत्ता के तलवे चाटने में लगे हुए हैं, डॉ लाहिरी ने एक और मिसाल पेश की। हुआ यूं कि पिछले साल बीजेपी ने उत्तर प्रदेश में संपर्क टू समर्थन अभियान चलाया था। सीएम आदित्यनाथ इस अभियान के तहत पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र के प्रबुद्ध लोगों के घर जा जाकर उनसे मिल रहा था। जब आदित्यनाथ डॉ लाहिरी के घर पहुंचा तो डॉ लाहिरी ने मिलने से इनकार करते हुए कहा कि आदित्यनाथ को अगर मिलना है तो पर्ची कटवा कर ओपीडी में आये। वह घर पर नहीं मिलेंगे।

डॉ लाहिरी एक सच्चे हीरो हैं। उन्हें हजारों सलाम।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com