देवशयनी एकादशी के दिन भूलकर भी ना करें ऐसे काम, हो सकता हैं भारी नुकसान

0
136
vishnu

हिन्दू धर्म में एकादशी का महत्व सबसे ज्यादा रहता हैं ऐसे में देवशयनी ग्यारस का महत्व तो अपने आप मे ही सबसे खास हैं। आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष में आने वाली ग्यास को देवउठनी ग्यारस कहा जाता हैं। इस एकादशी के व्रत को हिन्दू धर्म में सबसे ज्यादा महत्व दिया गया हैं। एकादशी व्रत काफी फलकारी होता हैं लेकिन कुछ बातें ऐसी भी हैं जिसका हमे खास तौर पर ध्यान रखना पड़ना हैं। कुछ चीजें ऐसी भी होती हैं जिसे करने से एकादशी का लाभ तो हमारे हाथ से छुटता ही हैं साथ ही हम पाप के भागिदारी भी बन जाते हैं।

तो आइए जानते हैं कि ऐसी कौन सी चीजों को करना एकादशी के दिन वर्जित माना जाता हैं।

1- देवशयनी एकादशी के दिन सूर्योदय से पहले उठना चाहिए। इस दिन जल्दी उठ कर ही भगवान की पूजा अर्चना की जाती हैं।

2- देवशयनी एकादशी के दिन घर में लहसुन प्याज से बना कोई भोजन ना बनाएं और ना ही खरीद कर लाएं। इस दिन लहसुन प्याज खाना वर्जित माना जाता हैं।

3- देवशयनी एकादशी के दिन पूजा-पाठ करने से पहले साफ-सुथरे कपड़ें ही पहने और कोशिश करें कि इस दिन काले और नीले कपड़ें ही पहने।

4- देवशयनी एकादशी के दिन पूजा करते समय शांतिपूर्वक माहौल बनाए रखें।

5- सभी प्रकार के शुद्ध और साफ पूजा पाठ सामग्री का ही प्रयोग करें।

6- एकादशी के दिन पूजा में पीले फूल और फल का प्रयोग करें। ऐसा करने से भगवान विष्णु जल्द ही प्रसन्न होते हैं।

7- एकादशी के दिन चावल का सेवन ना करें।

8- एकादशी के दिन बाल और नाखुन नहीं काटने चाहिए।

9- एकादशी के दिन मंदिर में सूखे फूलों की माला बिल्कुल नहीं रखनी चाहिए।

10- एकादशी के दिन मांसहार का सेवन भी नहीं करना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here