सावन महीने में ना करें ऐसे काम वरना उठ सकती हैं आप पर से शिव की कृपा

0
110
shiva

हिन्दू मान्यताओं में सावन के महीने का बहुत ही ज्यादा महत्व हैं। इस महीने भोलेनाथ के भक्त अपने आराध्य को मनाने के हर तरह की पूजा आराधना करते हैं। शास्त्रों में बताया गया हैं कि सावन का महीना भगवान शिव का महीना होता है क्योंकि इस महीने में भगवान विष्णु पाताल लोक में रहते हैं और भगवान शिव ही पालनकर्ता भगवान विष्णु के कामों को भी देखते हैं। भोलेनाथ भोले भंडारी हैं लेकिन उनके क्रोध से भी यहां सब परिचित हैं। इसलिए आज हम आपको यही बताने जा रहे कि ऐसा क्या हैं जिसे आपको सावन के महीने में नहीे करना चाहिए। इन बातो का ध्यान रख कर आप भोलेनाथ के क्रोध से भी बच सकते हैं।

1¬- सावन माह में साधारण और सात्विक जीवन का पालन करना चाहिए । साथ ही इस महीने मांस, मंदिरा के सेवन से परहेज करना चाहिए क्योकि शिव इन दिनों विष्णु के कार्य का भी संचलन करते हैं।

2- शास्त्रों में बताया गया हैं कि सावन के महीने में दूध का सेवन अच्छा होता है। यही कारण है कि सावन में भगवान शिव का दूध से अभिषेक करने की बात कही गई है। इससे वात संबंधी दोष से भी बचा जा सकता हैं।

3- सावन के महीने में बैंगन का सेवन नहीं करना चाहिए। शास्त्रों में बैंगन को अशुद्ध माना गया है इसलिए द्वादशी, चतुर्दशी के दिन और कार्तिक मास में भी इसे खाने की मनाही है।

4- सावन के महीने में सांड अगर घर के दरवाजे पर आए तो उसे मार कर भगाने की बजाय कुछ खाने को दें। सांड को मारना शिव की सवारी नंदी का अपमान माना जाता है।

5-सावन के महीने में हर रोज भगवान शिव का जलाभिषेक करने से कई जन्मों के पाप के प्रभाव को कम कर देता है। इसलिए शास्त्रों में बताया गया है सावन में सूर्योदय से पूर्व उठकर स्नान ध्यान करके भगवान शिव का अभिषेक करना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here