गोपाल भार्गव के बिगड़े बोले, दिग्विजय सिंह की अंगुली और मुंह में गुप्तरोग Gopal Bhargava’s impatience, Digvijay Singh’s secret and disease in his mouth

0
31
gopal

पुलवामा आतंकी हमले में 40 सीआरपीएफ जवान शहीद हो गए थे। इस आतंकी हमले को लेकर देश की सियासत गरमाई हुई है। कुछ दिन पहले पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने पुलवामा हमले को दुर्घटना कहा था। इसके बाद वे भाजपा के निशाने पर आ गए थे। इसी बीच मप्र विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह को लेकर विवाद बयान दिया है। उन्होंने एक सभा के दौरान कहा कि दिग्विजय सिंह की अंगुलियों और मुंह में गुप्तरोग हो गया है। उन्होंने कहा कि जब तक वह अपनी अंगुलियां नहीं चला लेते मोबाइल पर, जब तक अपने मुंह से कुछ देश के खिलाफ बयान नहीं दे देते, तब तक उनको खाना नसीब नहीं होता है।

गौरतलब है कि कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए पुलवामा आतंकी हमले को दुर्घटना करार दिया था। केवल इतना ही नहीं 6 मार्च को उन्होंने कहा कि वह अपने इस बयान पर अडिग हैं, जिसमें हिम्मत है वह उसपर केस कर दे। दिग्विजय सिंह ने ट्वीट में लिखा था कि पुलवामा आतंकी हमले को मैंने ‘दुर्घटना‘ कह दिया, तो मोदी सरकार के तीन केंद्रीय मंत्री मुझे पाकिस्तान समर्थक बताने में जुट गए। यूपी में भाजपा के उपमुख्यमंत्री केशव मौर्य का बयान कृप्या सुनें। मोदी जी व उनके मंत्रीगण मौर्य जी के बारे में कुछ कहना चाहेंगे? दिग्विजय सिंह ने केशव प्रसाद मौर्य का एक वीडियो रिट्वीट करते हुए पूछा है कि उनपर क्या विचार है।

जब शिवराज सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री कमलनाथ को दिया धन्यवाद

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने हाल ही में अपनी सरकार का रिपोर्ट कार्ड पेश किया था। इस पर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने प्रतिक्रिया देते हुए एक के बाद एक कई ट्वीट करते हुए लिखा कि जो पार्टी 70 साल में कुछ नहीं कर पाई, उसने 76 दिन में अपने 83 का काम ढिंढोरा पीट दिया।

चौहान ने दूसरा ट्वीट कर लिखा है कि मप्र ने 76 दिनों में देखा कि मंत्री गणतंत्र दिवस के भाषण नहीं पढ़ पा रहे हैं। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने 10 दिन में कर्जमाफी ना होने पर सीएम बदलने का ऐलान किया था, लेकिन 76 दिन बाद भी किसानों को सिर्फ धोखा मिला। अगला ट्वीट में लिखा है कि 76 दिन में प्रदेश में भय, आतंक, अराजकता का माहौल बन गया हैं।

इंदौर और चित्रकूट में अपहरण हुआ। सरकार ट्रांसफर के धंधे में लगी रही। बीते 76 दिन में एक बार फिर बिजली कटौती से लालटेन युग की वापसी हो गई है। 76 दिन में जनता को ये एहसास हुआ कि मंत्री ही नशे के कारोबार को बढ़ावा देना चाह रहे हैं। उन्होंने लिखा है कि मिस्टर बंटाढार रिटर्न हो चुका है। 2003 जैसे मध्यप्रदेश का एहसास दिलाने के लिए मुख्यमंत्री कमलनाथजी का धन्यवाद। जनता आपको समझ गयी है और जल्द ही बड़े बदलाव के इंतजार में है।

Read More : शिवराज सिंह चौहान ने साधा राहुल पर निशाना, पूछा कहां डालेंगे मोबाइल की फैक्ट्री

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here