नोटबंदी के दो साल: बोले मनमोहन, बीमार सोच वाला था फैसला

0
25
modi-demonitisation

आज मतलब 8 नवंबर को नोटबंदी के दो साल पूरे हो गए हैं। 8 नवंबर 2016 को रात आठ बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 रूपए के पुराने नोट बंद करने का ऐलान किया था। इस फैसले ने देश-दुनिया को चौंका दिया और देशभर में हड़कंप भी मच गया था।

कांग्रेस का कहना है कि नोटबंदी ने देश की अर्थव्यवस्था को तहस-नहस कर दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देश की जनता से माफी मांगनी चाहिए। कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने प्रेसवार्ता में कहा कि नोटबंदी के खिलाफ कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता 9 नवंबर को सड़कों पर उतरेंगे। तिवारी के अनुसार कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी प्रदर्शन में हिस्सा लेंगे।

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह ने मोदी सरकार पर हमले करते हुए नोटबंदी के फैसले को बीमार सोच वाला और मनहूस बताया है। मनमोहनसिंह ने कहा कि नोटबंदी के कारण हर व्यक्ति प्रभावित हुआ है, बल्कि जीडीपी में भी गिरावट दर्ज की गई है वहीं छोटे-छोटे उद्योग नोटबंदी के कारण खत्म हो गए।

हमेषा विवादित बयान से सुर्खियों में रहने वाले कांग्रेस नेता शशि थरूर ने ट्वीट कर नोटबंदी की कीमत समझाई है।

Image result for औवेसी

via

एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी ने अपने ट्वीट में लिखा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक गलत फैसले ने लाखों लोगों को बेरोजगार कर दिया और अर्थव्यवस्था बर्बाद कर दी।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्वीट में लिखा है, डार्क-डे! नोटबंदी के खतरनाक फैसले का आज दूसरा साल है। नोटबंदी के मैंने कई गंभीर परिणामों के बारे में बताया था। अब तो प्रसिद्ध अर्थषास्त्री, आमजन और विषेषज्ञ भी नोटबंदी से हुए नुकसान पर मोहर लगा चुके हैं। सरकार ने देश को धोखे में रखकर नोटबंदी घोटाला किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here