Breaking News

डिमेंशिया..ये नही रही बुढ़ापे की बीमारी

Posted on: 08 Jun 2018 06:18 by shilpa
डिमेंशिया..ये नही रही बुढ़ापे की बीमारी

नई दिल्ली : भविष्य में होने वाली घटनाओंको लेकर चिंता करते है। कभीकभी तो बिनावजह डरावने अनुमानों के साथ भविष्य का अंदाजा लगते है। चिंता की वजह से हमारे जीवन में कई मुश्किलें आती है ,जिसके चलते हम कई गलतिया कर देते है जैसे कही जाते समय चाबी भूल जाना,बारबार लॉक चेक करना, सुबह बिना वजह की घाइ करना। और कई है
आज जिसे देखे वो दौड़ता भागता रहता है ,दिन खत्म हो जाता है पर काम नहीं और इसी भागदौड़ की देन है चिंता और तनाव। लेकिन क्या आप जानते है ये चिंता आपके लिए किस हद तक नुकसानदेह हो सकती है। लम्बे समय तक अगर आप चिंताग्रस्त रहते है तो यह डिमेंशिया का खतरा बढ़ा सकती है।

Related image
क्यों होता है ऐसा
-दैनिक जीवन में चिंता के शारीरिक और भावनात्मक लक्षण जैसे ह्रदय की धड़कन बढ़ना, लगातार सोते रहना ,पढाई में ध्यान न होना आदि। ज्यादातर लोग ऐसेमे अवसाद के शिकार हो जाते है। यूनिवर्सिटी ऑफ टोरंटो के सहायक प्रोफेसर लिंडा माह के अनुसार, “लंबे समय तक चिंता, भय, तनाव की स्थिति में मस्तिष्क की तंत्रिका गतिविधि प्रभावित होती है, जिसकी वजह से मानसिक विकार, अवसाद और अल्जाइमर रोग होने की संभावना रहती है।”

Image result for stress meaning

शोधार्थियों का कहना है, “सामान्य स्थितियों में चिंता और तनाव जिंदगी के आम हिस्से के रूप में जाना जाता है लेकिन अगर यह बार-बार और लंबे समय तक रहता है तो इससे दिनचर्या की सामान्य गतिविधियां प्रभावित होती हैं। लंबे समय तक यह समस्या रहने से व्यक्ति मानसिक रोग का शिकार हो सकता है।” यह शोध ‘करंट ओपिनियन इन साइकियाट्री’ में प्रकाशित किया गया है।

कहीं ऐसा न हो कि चिंता करते-करते आप भूल जाएं कि चिंता किस बात की है...

डिमेंशिया याने मनोभ्रंश किसी एक बीमारी नाम नहीं ये दिमाग की एक अवस्था है जिसमे दिमाग हमारी दैनिक जिंदगी से तालमेल नहीं बैठा पाता। उसकी याददाश्त कमजोर हो जाती है। ऐसे में परिवार के लोग भी इतना ख्याल नहीं करते है जबकि ऐसे में जरुरी है ऐसे व्यक्ति का प्यार और अपनेपन के साथ ख्याल रखा जाये। आमतौर पर डिमेंशिया को बुढ़ापे की बीमारी माना जाता है, लेकिन आजकल गलत खानपान, तनाव और खराब जीवनशैली कब आपको इसका शिकार बना दें, कह नहीं सकते। ऐसे में जरुरी है ऐसे व्यक्ति में जिसमे उम्र के साथ ऐसे लक्षण प्रकट हो रहे है हो सकता है वो डेमेंशिया हो तो इसलिए जरुरी है कि ऐसे समय में एक अच्छे डॉक्टर से सलाह लें और प्रभावी कदम उठायें |

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com