Breaking News

30 माह के बजाए 14 माह में तैयार हो गया दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे

Posted on: 26 May 2018 15:07 by Praveen Rathore
30 माह के बजाए 14 माह में तैयार हो गया दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे

नई दिल्ली। दिल्ली मेरठ के बीच तीस माह में बनाए जाने वाले ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस वे का कल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उद्घाटन करेंगे। आपको यह जानकर आश्चर्य हो सकता है कि इस हाईवे निर्माण के लिए 30 माह का समय तय किया गया था, लेकिन इसको महज 14 माह में ही तैयार कर लिया गया है। यानी तय समयसीमा से आधा समय भी नहीं लिया है। संभवत: देश में पहली बार इस तरह के कोई बड़े प्रोजेक्ट को समयसीमा से पहले पूरा कर लिया गया है अन्यथा अब तो हम चीन या अन्य विकसित देशों में ही इतने कम समय में बड़े प्रोजेक्ट पूरे होने की खबरें सुनते आए हैं, लेकिन पहली बार केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी की मिस्ट्री की वजह से हमारे देश में भी यह संभव हो पाया।pm_modi

नरेंद्र मोदी सोमवार को यूपी के बागपत में ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे (ईपीई) और दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे का उद्घाटन करेंगे। प्रधानमंत्री दिल्ली से मेरठ हाईवे पर खुली जीप में 6 किलोमीटर लंबा रोड शो भी करेंगे। यह 96 किमी लंबा देश का पहला स्मार्ट और ग्रीन हाईवे है, इसे बनाने में 841 करोड़ लागत आई। वहीं, हरियाणा के सोनीपत के कुंडली से पलवल के बीच बना ईपीई 11 हजार करोड़ की लागत से तैयार हुआ है। इसकी लंबाई 135 किलोमीटर है। इस प्रोजेक्ट के उद्घाटन में देरी पर पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट ने हाईवे अथॉरिटी को फटकार लगाते हुए कहा था कि अगर पीएम के पास समय नहीं है तो इसे 1 जून से चालू कर दिया जाए। Nitin-Gadk

ये है खासियतें
-इस हाईवे की लागत 841 करोड़ रुपए है।
-इसको तैयार करने के लिए 30 माह की समयसीमा तय थी, लेकिन 14 माह में बना लिया गया।
-यह सोलर पावर से लैस देश का पहला हाईवे है। आठ सोलर प्लांट बनाए गए हैं, जिनमें चार हजार किलोवॉट बिजली पैदा होगी।
-हर पांच सौ मीटर पर दोनों तरफ रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम बने हैं।
– यमुना ब्रिज देश का पहला ब्रिज होगा, जिस पर वर्टिकल गार्डन, सोलर पावर सिस्टम और ड्रिप सिंचाई के इंतजाम होंगे।
-इस एक्सप्रेसवे के दोनों ओर साइकिल और पैदल यात्रियों के लिए ट्रैक बनाया गया है।
-दिल्ली से मेरठ पहुंचने में तीन घंटे लगते थे, जो अब 45 मिनट में पहुंचा जा सकेगा।

-निजामुद्दीन ब्रिज से यूपी बॉर्डर (गाजियाबाद) तक 6 लेन बनी हैं।
– ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे सोनीपत के कुंडली से पलवल और गाजियाबाद तक जाता है। इसके शुरू होने के बाद हरियाणा और यूपी के बीच चलने वाले वाहन दिल्ली में नहीं घुसेंगे।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com