Breaking News

बीमा क्लेम का भुगतान करने में देरी की तो कंपनी को देना होगा ब्याज और जुर्माना

Posted on: 16 Jun 2018 10:45 by Praveen Rathore
बीमा क्लेम का भुगतान करने में देरी की तो कंपनी को देना होगा ब्याज और जुर्माना

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दस करोड़ लोगों को पांच लाख रुपए का आयुष्मान योजना के तहत हेल्थ इंश्योरेंस देने की घोषणा की थी, इस योजना को दिल्ली, ओडिशा, पंजाब और पश्चिम बंगाल को छोडक़र अन्य सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने लागू भी कर दी है। अब केंद्र सरकार ने एक प्रस्ताव रखा है जिसमें बीमा कंपनियों ने बीमारी के दौरान अस्पताल द्वारा भेजे गए बिल का भुगतान करने में देरी की तो बीमा कंपनियों को न सिर्फ जुर्माना देना पड़ेगा बल्कि जितनी देर भुगतान करने में हुई तब तक एक प्रतिशत की दर से ब्याज का भुगतान भी अस्पताल को करना पड़ेगा।

सरकार की मंशा है कि पैसे के अभाव में किसी भी व्यक्ति के इलाज में अनावश्यक देरी नहीं होना चाहिए। इसके लिए व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त बनाने और लेतलाली या कोताही नहीं हो, इसके लिए पुख्ता इंतजाम किए जा रहे हैं।

गरीब परिवारों को पांच लाख रुपए के हेल्थ इंश्योरेंस के तहत पेमेंट में देरी पर केंद्र सरकार ने पेनल्टी का प्रस्वात रखा है। इसके तहत यदि किसी बीमा कंपनी ने इलाज पर आए खर्च की राशि की पेमेंट अस्पताल को करने में देरी की तो उसे पेनल्टी देनी होगी। इस योजना के तहत अगर कोई बीमा कंपनी दावे का भुगतान अदा करने में 15 दिन से ज्यादा की देरी करती है तो उसे दावा राशि पर तब तक एक फीसदी ब्याज देना होगा, जब तक वह पूरी तरह भुगतान अदा नहीं कर देती है।

बता दें कि ये बीमा योजना दुनिया की सबसे बड़ा हेल्थकेयर प्रोग्राम बन गया है, क्योंकि दुनिया में आबादी के मामले में भारत दूसरे स्थान पर है और यह कार्यक्रम भारत के स्वास्थ्य परिदृश्य को बदल देगा। केंद्र सरकार द्वारा वित्तपोषित इस योजना का लक्ष्य गरीब, वंचित ग्रामीण परिवारों और शहरी श्रमिकों के परिवारों को लाभ देना है।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com