प्रियंका के प्रचार सहित ‘न्याय’ योजना मे हुई देरी, राहुल के नेतृत्व पर सवाल नहीं : कमलनाथ | Delay in ‘NYAY’ Scheme while Priyanka’s Campaign, No Question on Rahul’s Leadership: Kamal Nath

0
37
cm kamalnath

भोपाल – 17 वीं लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद कांग्रेस इसकी समीक्षा में लगी हुई है। इसी के चलते मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी हार के कारणों का जिक्र किया है। अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत के दौरान सीएम कमलनाथ ने कई मुद्दों पर अपनी बात रखी है।

लोगों तक नहीं पंहुचा कांग्रेस का संदेश –
सीएम कमलनाथ ने बताया कि लोगों तक कांग्रेस का संदेष पंहुचाने में सफलता नहीं मिल पाई है। सीएम के अनुसार पार्टी में प्रियंका गांधी भी देर से उतरी उन्हे चुनाव प्रचार में काफी समय पहले ही उतर जाना था। उन्होने बीजेपी के चुनाव प्रचार को भी कांग्रेस की तुलना मजबूत बताया और कहा कि नरेन्द्र मोदी का संदेश लोगों अधिक और अच्छे से पंहुचा।

राहुल हमारे नेता और आगे भी रहेंगे –
वहीं सीएम ने राहुल गांधी के नेतृत्व में मिली करारी हार पर कहा कि उन्हे नेतृत्व पर सवाल नही उठाए जा सकते हैं। वह हमारे नेता हैं और आगे भी रहेंगे। गौरतलब है कि राहुल गांधी इस बार के चुनाव में अपनी सुरक्षित सीट माने जाने वाली अमेठी सीट भी नहीं बचा पाए हैं।

‘न्याय’ योजना लांच करने में हुई देरी –
सीएम कमलनाथ ने ‘न्याय‘ योजना का जिक्र करते हुए योजना की घोषणा करने में भी हुई देरी को भी हार कारण बताया है। उन्होने कहा हम पहले ही इसकी घोषणा कर सकते थे लेकिन देर हो गई। भाजपा के प्रचार के बीच लोगों ने इसे एक कैंपेन की तरह लिया। बता दे कि न्याय योजना के तहत कांग्रेस ने हर साल 5 करोड़ गरीब परिवारों को 72 हजार यप्ये देने की घोषणा की थी।

दिग्विजय की हार की वजह भी बताई –
भोपाल में दिग्विजय सिंह की हार की वजह बताते हुए कहा कि इसके पीछे हिंदुत्व का मुद्दा हावी रहा है। धु्रवीकरण के माहौल के बीच लोग बाकी मुद्दें भुलकर केवल हिंदू के तौर पर वोट किया है। बता दे कि प्रज्ञा के जीत के बाद कमलनाथ ने चिंता जाहिर करते हुए कहा कि महात्मा गांधी की विचारधारा हार गई और गांधी के हत्यारे गोडसे की विचारधारा जीत गई।

गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव 2019 में मोदी लहर के आगे कोई भी राजनैतिक दल और दिग्गज नेता नहीं टिक पाए हैं। इस लोकसभा चुनाव में एनडीए ने 350 सीटें हासिल की है। साथ ही बीजेपी अपने पिछले चुनाव के प्रदर्षन का रिकाॅर्ड तोडते हुए 302 सीटों पर कब्जा जमाया है। प्रदेश में कांग्रेस की तरफ से कमलनाथ के बेटे नकुलनाथ ही जीत दर्ज करवा सके हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here