देहरादून: पेंशनधारकों के लिए बड़ी खबर सामने आई है। दरअसल अब पेंशन धारकों को जीवित प्रमाण पत्र जमा करने के लिए कार्यालय के चक्कर काटने की जरूरत नहीं है। क्योंकि जो बुजुर्ग कार्यालय तक जाने में असमर्थ है अब वह प्रार्थना पत्र लिखकर अपने स्वजन और जनप्रतिनिधि के माध्यम से जीवित प्रमाण पत्र जमा करवा सकते हैं। समाज कल्याण कार्यालय की ओर से अब वृद्ध पेंशनधारकों को बड़ी राहत दी हैं। पेंशन धारकों को अब जीवित प्रमाण पत्र जमा करने के लिए कार्यालय के चक्कर काटने की जरूरत नहीं होगी समाज कल्याण कार्यालय की ओर से बड़ी राहत देते हुए कहा गया है कि अब पेंशनधारक के स्वजन और जनप्रतिनिधि के माध्यम से प्रमाण पत्र को जमा करवा सकते हैं।

समाज कल्याण अधिकारी गोरधन सिंह ने बताया कि वृद्ध पेंशन का लाभ ले रहे, पेंशन धारकों को अब कार्यालय के चक्कर लगाने की जरूरत नहीं है। इसी को देखते हुए फैसला लिया गया है कि जो बुजुर्ग दफ्तर आने में असमर्थ है। अब वह प्रार्थना पत्र लिखकर अपने स्वजन या जनप्रतिनिधि के माध्यम से जमा करवा सकते हैं। जो दूरस्थ है वहा क्षेत्र में पटवारी, ग्राम प्रधान के माध्यम से पेंशन धारकों के लिए यह सुविधा दी गई है। पेंशन से संबंधित किसी भी तरह की समस्या आने पर वह प्रतिनिधि के माध्यम से विभाग को सूचित कर सकते हैं, जिसके बाद तत्काल समस्या का समाधान किया जाएगा।

Must Read- Pension नियमों में हुआ बड़ा बदलाव, जानें किसको मिलेगा लाभ
दूसरी ओर झारखंड सहित अन्य जगहों पर पुरानी पेंशन बहाल करने की मांग को लेकर आंदोलन किया गया। जिसके बाद झारखंड के मुख्यमंत्री ने अपने प्रदेश में पुरानी पेंशन जल्द ही बहाल करने का एलान किया। इस दौरान झारखंड के मुख्यमंत्री ने सार्वजनिक मंच से घोषणा की थी, कि इस वर्ष 15 अगस्त तक शासनादेश जारी कर झारखंड में पुरानी पेंशन बहाल करेंगे। यह भी बताया गया है कि राजस्थान और छत्तीसगढ़ में पूर्व में ही पुरानी पेंशन बहाल हो चुकी है और आने वाले कुछ दिनों में तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, बिहार, पंजाब में भी पुरानी पेंशन को बहाल करने की संभावना जताई जा रही है।

झारखंड की राजधानी रांची के बिरसा मुंडा स्टेडियम में पेंशन महासम्मेलन का आयोजन किया गया था। जिसमें पुरानी पेंशन बहाली राष्ट्रीय आंदोलन उत्तराखंड की प्रांतीय कार्यकारिणी के प्रदेश अध्यक्ष जीतमणि पैन्यूली के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल शामिल हुआ। इस दौरान पैन्यूली ने बताया कि इस सम्मेलन में पुरानी पेंशन बहाली राष्ट्रीय आयोजन के राष्ट्रीय अध्यक्ष विजय कुमार बंधु , झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, लोकसभा सांसद महोबा मांझी,विधायक अंबा प्रसाद आदि ने हिस्सा लिया।