यहां करोड़ों से ज्यादा के आभूषणों और नगदी से होता है महालक्ष्मीजी का श्रृंगार

0
14
mahalakshmi mandir

एक अद्भुत मंदिर जहा दीवाली पर करोड़ों रुपयों और आभूषण से सजता है माता का दरबार। विशाल महालक्ष्मी के इस मंदिर को दीवाली के समय खूब सजाया जाता है। इस मंदिर के कपाट धनतेरस के शुभ दिन, साल में केवल एक ही बार खुलते है। इस दिन ब्रह्म मुहूर्त में इस मंदिर के कपाटों को खोल दिया जाता है। इसके पश्चात दिवाली के बाद तक ये कपाट खुले रहते हैं। दीपावली के पांच दिन तक सभी पर्व धूमधाम से मनाये जाते है।

Image result for महालक्ष्मी मंदिर रतलाम मध्य प्रदेश
via

मध्य प्रदेश के रतलाम जिले में एक ऐसा मंदिर है जहां लोगों को प्रसाद में आभूषण बांटे जाते है। जी हां ये आपको मजाक लग सकता है लेकिन ये सच है। ऐसी मान्यता है कि इस मंदिर में जो भी भेंट के रुप में चढ़ाया जाता है वो साल के अंत में दोगुनी हो जाती है। इसलिए दीवाली से पहले लोग यहां पर पूरी श्रद्धा के साथ अपने आभूषण और नोटों की गड्डियां लेकर आते हैं। इन नोटों की गड्डियां और आभूषण को मंदिर में ही रख लिया जाता है। बकायदा इन सबकी एंट्री भी की जाती है और टोकन भी दे दिया जाता है। भाई दूज के बाद टोकन वापस देने पर आपको आपकी अमानत वापिस मिलती है।

Related image
via

इस मंदिर की खासियत ये है कि आज तक भक्तों के द्वारा लाए गए लाखों के आभूषण इधर से उधर नहीं हुए हैं। एक समय के बाद भक्तों को ये वापस कर दिए जाते हैं।

Related image
via

सुत्रों से बताया है कि इस मंदिर में पिछले वर्ष लगे आभूषणों की कीमत 100 करोड़ रुपए थी । सजावट में लगा इतना सारा धन मंदिर को दान में नहीं बल्कि सजावट के लिए श्रद्धालु देते हैं, जो उन्हें बाद में वापस कर दिया जाता है। जो भक्त यहाँ दर्शनार्थ आते है उन्हें प्रसाद के रुप में नगदी तथा आभूषण दिए जाते हैं। भक्त इस प्रसाद को शगुन मानकर कभी भी खर्च नहीं करते हैं बल्कि संभालकर रखते हैं।

Image result for महालक्ष्मी मंदिर रतलाम मध्य प्रदेश
via

मान्यता है कि इस मंदिर में महालक्ष्मी के श्रंगार के लिए जो भी अपने आभूषणों को लाता है उसके घर में सुख समृद्धि बनी रहती है।

Related image
via

इस मंदिर में महिलाओं के प्रसाद के रुप में श्रीयंत्र, सिक्का, कौड़ियां, अक्षत, कंकूयुक्त कुबेर पोटली दी जाती है, जिन्हें घर में रखना शुभ माना जाता है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here