डूबती जेट एयरवेज को मिला डार्विन ग्रुप का सहारा | Darwin Group Submits their Bid for Jet Airways…

0
11

नई दिल्ली: लोन जमा नही करने के कारण नरेश गोयल ने सरेंडर कर दिया था जिसकी वजह से जेट एयरवेज बैंक के हाथों चली गई थी। डूबती हुई जेट एयरवेज को नीलामी में किसी भी कंपनी ने नही ख़रीदा था तो ये मजबूरी में बैंक के पास चली गई थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक डार्विन ग्रुप ने जेट एयरवेज पर अपनी 14,000 की बोली जमा करवा दी है। गौरतलब है कि डार्विन ग्रुप ने अपनी बोली 8 मई को ही जमा करा दी थी। बता दे कि डार्विन ग्रुप और एसबीआइ के अधिकारियों की इस विषय पर बात हो गई है।

डार्विन ग्रुप इससे पहले भी कई जगह इन्वेस्ट करते हुए देखा गया है। इस ग्रुप ने बोली लगाने से पहले कुछ जानकारियां जुताई थी और उसके बाद बोली लगाई थी। अगर ये समझौता हो जाता है तो जिस किसी भी बैंक से नरेश गोयल ने कर्ज़ा लिया था उन सभी बैंको को उतना पैसा वापस मिल जाएगा। सूत्रों के मुताबिक डार्विन ग्रुप अब बैंको से जेट एयरवेज के सभी कर्ज और संपत्ति की जानकारी निकालेगी क्योकि कई सूचना सार्वजनिक तौर पर उपलब्ध नहीं हैं।

कंपनी बंद होने से हुई थी दिक्कत

नरेश गोयल के कंपनी छोड़ने के बाद जेट एयरवेज के सेकड़ो कर्मचारी बेरोजगार हो गए थे। इसके अलावा इंदौर के एयरपोर्ट में भी फ्लाइट्स की कमी हो गई जिस कारण काफी लोग प्रभावित हुए थे। कंपनी बंद होने के बाद जेट एयरवेज के कर्मचारियों ने काफी विरोध प्रदर्शन किया था। बता दे कि जेट एयरवेज ने विभिन बैंको से भारी मात्रा में लोन ले रखा था जो वो चुका नही सकी थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here