इस वर्ष मानसून (monsoon) अपने समापन के दौर में भी अच्छी खासी उपस्थिति दर्ज करा रहा है। देश के कई राज्यों में बारिश की गतिविधियां अभी भी लगातार जारी है। राजधानी दिल्ली (Delhi) की बात की जाए तो आने वाले तीन से चार दिन तक राजधानी दिल्ली के आसमान में काले बादल छा सकते हैं, इसके साथ ही आने वाले 2-3 दिनों में राजधानी दिल्ली में अच्छी खासी बारिश की संभावना भी मौसम विभाग के द्वारा जताई जा रही है। जानिए क्या है देश के अन्य राज्यों के मौसम का हाल।

Also Read-Congress President Election: ‘इस जंगल में हम दो शेर’ खड़गे और थरूर, तीसरे उम्मीदवार का नामांकन हुआ ढेर

इन 9 राज्यों में है भारी बारिश का अलर्ट

मानसून की विदाई के दौर में भी देश के कई राज्य बारिश की चपेट में आ रहे हैं। राष्ट्रीय मौसम विभाग के अनुसार अंडमान-निकोबार, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, ओडीशा, तमिलनाडु, पुड्डुचेरी और आंध्र प्रदेश में आने वाले 24 घंटो में भारी बारिश के संकेत मिलने के बाद अलर्ट जारी करके चेतावनी दी है। इसी के साथ IMD ने दक्षिणी महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल और छत्तीसगढ़ के कुछ जिलों में आने वाले दो तीन दिनों में तेज बारिश के संकेत दिए हैं।

Also Read-Gurdaspur में Pitbull ने एक रात में 12 लोगों को नोंचा, Retired Captain ने डाला मुँह में डंडा, भीड़ ने उतारा मौत के घाट

मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश का हाल

भारतीय मौसम विभाग के अनुसार मध्य प्रदेश में कल जहां दिनभर मौसम साफ़ रहा, वहीं दोपहर के बाद शाम होते होते एक बार फिर प्रदेश के कई जिलों में झमाझम शुरू हो गई, इन जिलों में प्रदेश की व्यवसायिक राजधानी इंदौर भी शामिल है। IMD के अनुसार आने वाले दो-तीन दिनों तक एमपी के कई जिलों में बारिश की संभावना बन रही है। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार विदिशा, रायसेन, बैतूल, हरदा, रतलाम, उज्जैन, देवास, शाजापुर, डिंडौरी, मंडला और बालाघाट में सामान्य से कुछ अधिक वर्षा दर्ज की जा सकती है। इसके साथ ही उत्तर प्रदेश के आसमान में भी बादलों की मौजूदगी बनी रहेगी और राजधानी लखनऊ और प्रयागराज सहित कई जिलों में बारिश होने की संभावना मौसम विभाग ने जताई है।

मौसम विभाग ने बताए कारण

भारतीय मौसम विभाग IMD के अनुसार देश के मौसम को फिलहाल बंगाल की खाड़ी में बनने वाली नमी से निर्मित हुआ चक्रवात सर्वाधिक प्रभावित कर रहा है। हवा के ऊपरी हिस्से में मौजूद होने के कारण ये चक्रवात देश के विभिन्न राज्यों के आसमानों में पहुंच कर बारिश की संभावनाओं का निर्माण कर रहा है, जिसके कारण देश के अलग-अलग राज्यों में बारिश की गतिविधियां संचालित हो रही हैं।