Breaking News

संकट में घिरा कांग्रेस का ‘न्याय‘, कोर्ट ने मांगा जवाब | Congress ”NYAY” in Crisis

Posted on: 20 Apr 2019 08:35 by Pawan Yadav
संकट में घिरा कांग्रेस का ‘न्याय‘, कोर्ट ने मांगा जवाब | Congress ”NYAY” in Crisis

लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने अपना घोषणा पत्र जारी किया था, जिसमें गरीबों को न्यूनतम आय योजना (न्याय) के तहत 72 हजार सालाना देने का वादा किया गया है। इस मामले में अधिवक्ता मोहित कुमार और अमित पांडेय ने इलाहाबाद हाई कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर कर दी। जिस पर सुनवाई करते हुए हाई कोर्ट ने कांग्रेस और चुनाव आयोग को नोटिस जारी कर दो सप्ताह में जवाब मांगा है।

इस याचिका में कांग्रेस के घोषणा पत्र से न्याय योजना हटाने की मांग की गई है। सुनवाई के दौरान कोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा कि इस तरह की घोषणा वोटरों को रिश्वत देने की कैटगरी में क्यों नहीं? क्यों न पार्टी के खिलाफ पाबंदी या दूसरी कोई कार्रवाई की जाए। कोर्ट ने माना कि इस तरह की घोषणा रिश्वतखोरी व वोटरों को प्रभावित करने की कोशिश है। इस मामले में अगली सुनवाई 13 मई को होगी।
Read More : हार्दिक पटेल को थप्पड मारने का खुला राज, सामने आयी यह बड़ी वजह

‘न्याय स्कीम‘ पर सवाल उठाया तो नीति आयोग के उपाध्यक्ष को मिला नोटिस

नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार को कांग्रेस की ‘न्याय स्कीम‘ पर सवाल उठाना पड़ गया हैं। चुनाव आयोग ने आचार संहिता के उल्लंघन के मामले में कुमार को नोटिस थामा दिया है और दो दिन में जवाब भी मांगा है। लोकसभा चुनाव के चलते कांग्रेस ने मतदाताओं को लुभाने के लिए न्याय स्कीम के तहत गरीबों के खातों में 72 हजार रूपए हर साल देने का वादा किया है।

इस पर नीति आयोग के उपाध्यक्ष कुमार ने सवाल उठाते हुए आर्थिक तौर पर असंभव बताया है। इसी ट्प्पिणी को चुनाव आयोग ने संज्ञान में ले लिया और उन्हें नोटिस भेजकर जवाब मांगा है। राजीव कुमार का कहना है कि कांग्रेस की न्याय स्कीम से राजकोषीय घाटा बुरी तरह से धराशायी हो जाएगा। इतना ही नहीं, उन्होंने कहा था कि ये कांग्रेस का पुराना दांव और चुनाव जीतने के लिए कुछ भी कर सकती है। कुमार ने ट्वीट कर लिखा, ‘कांग्रेस के पुराने रिकाॅर्ड को देखा जाए तो वह चुनाव जीतने के लिए चांद लाने जैसे वादें करती रही है। कांग्रेस अध्यक्ष ने जिस योजना की घोषणा की है, उससे राजकोषीय अनुशासन खत्म होगा, काम नहीं करने को लेकर एक प्रोत्साहन बनेगा और यह कभी क्रियान्वित नहीं होगा।‘ इस ट्वीट के बाद राजनीतिक माहौल गर्मा गया था।

Read More : विरोध का ओपन माइक हो गई वाराणसी की सीट

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com