कांग्रेस : यह तो दृश्य का दोहराव है

0
10
madhypradesh

मुकेश तिवारी
([email protected])

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों की आखिरी सूची जारी होने के बाद मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस का जो हाल नजर आ रहा है उसे देखकर कोई भी स्वाभाविक तौर पर पहली प्रतिक्रिया यही देगा कि यह तो पिछले दृश्य का दोहराव (रिपीटेशन) मात्र है। ऐसी प्रतिक्रिया आना ही है क्योंकि यह वैसा ही दृश्य तो है जैसा 2013 के विधानसभा चुनाव की टिकट बेला में नजर आया था। तब भी कांग्रेस में टिकट बंटे,कटे, बदले और फिर बड़े नेताओं पर टिकट बेचने के आरोप भी तो लगे थे। पांच साल बाद भी आज वैसा ही माहौल कांग्रेस में दिखाई दे रहा है। ऐसे में मिशन 2018 पर निकली कांग्रेस के बड़े नेताओं ने एकता,एकजुटता की जो कसमें खाई थी, वादे-इरादे व्यक्त किये थे, वह सब सवालों के घेरे में आ गए है।

congress

कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी जब मालवा-निमाड़ के दौरे पर आये थे तो इंदौर में मीडिया से बतियाते हुए उन्होंने कहा था कि, पैराशूट से कोई उम्मीदवार नहीं उतरेगा। 2-3 बार हारे हुए चेहरों को टिकट नही दिया जायेगा। हमने एक सर्वे कराया है उसमें जो खरे उतरेंगे उन्हें ही टिकट दिया जायेगा। अब टिकटों के ऐलान के बाद राहुल गांधी द्वारा की गई यह घोषणा भी तो कई विधानसभा क्षेत्रों में सवालों के घेरे में आ गयी है। एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता का कहना है कि पता नहीं हमारी पार्टी करना क्या चाहती है।

चलते-चलते मालवा खासकर निमाड़ के बड़े नेता पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अरुण यादव को बुधनी से चुनाव मैदान में उतारने पर चर्चा जरुरी सी लगती हैं। क्या अरुण मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को उनके राजनीतिक गढ़ और गृह क्षेत्र में चुनौती दे पाएंगे? इस बड़े मुकाबले को कांग्रेस क्या कड़ा बनाने में सफल हो पायेगी? जिस रणनीति के साथ वो वहां उतरी है उसे साकार करते हुए शिवराज को कितना घेर-बांध पाएगी? इस पर आने वाले समय में सभी की नजर रहेगी।

लेखक वरिष्ठ पत्रकार और Ghamasan.com के संपादक हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here