कन्फ्यूज्ड राहुल, मुश्किल में कांग्रेस

0
28
Rahul-Gandhi

मुकेश तिवारी
([email protected])

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का भाजपा के गढ़ मालवा-निमाड़ का दौरा खासा प्रभावी नजर आ रहा था पर उन्हें हुए एक कन्फ्यूजन ने इस पर मानो पानी फेर दिया। कन्फ्यूजन भी उन्हें ऐसा हुआ जो शायद छोटी क्लास में पढ़ने वाले बच्चे को भी ना हो। फिर भाजपा को तो हमलावर होने और यह कहने का मौका मिलना ही था कि देश या प्रदेश का नेतृत्व उस कांग्रेस पार्टी के हाथ में कैसे सौंपा जा सकता है जिसका सबसे बड़ा नेता ही कन्फ्यूज्ड (confused) है।

कुछ दिन पहले राहुल ने राफेल और सीबीआई मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तीखे शब्द बाणों से हमला बोला था। उन पर जवाबी हमला बोलने की जिम्मेदारी निभाने आए केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने सारे आरोपों को यह कहते हुए सिरे से खारिज कर दिया था कि राहुल मतिभ्रम का शिकार हैं। अब पनामा पेपर लीक मामले में छत्तीसगढ़ और मप्र के सीएम के बेटे को लेकर राहुल गांधी को जो कन्फ्यूजन हुआ है वह उनके लिए ही नहीं कांग्रेस के लिए भी शायद आने वाले दिनों में मुसीबत का सबब बन जाए।

madhyapradesh

यह पहला मौका नहीं है जब राहुल कुछ बहुत बेहतर करने के बाद ऐसा कुछ कर बैठते हैं जिससे उन पर अभी भी अपरिपक्व होने का आरोप चस्पा करने का मौका विपक्ष खासकर भाजपा को मिल जाता है। यह बात भी अभी कहां बहुत पुरानी है जब लोकसभा में प्रभावी भाषण के बाद राहुल ने मोदी को जादू की झप्पी दी थी और अपनी सीट पर लौटकर आंखों से असभ्य माना जाने वाला इशारा किया था।

यूं देखा जाए तो अकेले राहुल ही नहीं शायद पूरी कांग्रेस ही कन्फ्यूजन का शिकार है। खासकर मप्र, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में जहां चुनाव हो रहे हैं। कांग्रेस का कार्यकर्ता जितना उत्साहित है उतना ही कन्फ्यूज्ड भी। वह यह तय नहीं कर पा रहा कि करना क्या है और किससे नेतृत्व में। सत्ता अभी आई नहीं है और तीनों राज्यों में कांग्रेस नेताओं के बीच मुख्यमंत्री बनने की अघोषित-सी होड़ शुरू हो गई है। भले ऊपरी तौर पर एकता दिखाई और कसमें खाई जा रही हैं पर भीतरी वास्तविकता कुछ और ही है। अब कांग्रेस के लिए खतरा यह है कि इन सब कन्फ्यूजन (confusion) का कन्क्लूज़न (conclusion) कहीं 11 दिसंबर को बहुत खराब ना हो।

लेखक वरिष्ठ पत्रकार और ghamasan.com के संपादक हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here