Breaking News

टिकट वितरण को लेकर भाजपा में चल रहा है खूब घमासान | Condition in BJP for ticket distribution is very startle

Posted on: 06 Apr 2019 15:59 by Surbhi Bhawsar
टिकट वितरण को लेकर भाजपा में चल रहा है खूब घमासान | Condition in BJP for ticket distribution is very startle

अर्जुन राठौर

मध्यप्रदेश में भारतीय जनता पार्टी टिकट वितरण को लेकर जो स्थितियां बन रही है वह बेहद चौंकाने वाली है। पार्टी में जमकर असंतोष है और हाईकमान को खूब कोसा जा रहा है। इंदौर से सुमित्रा महाजन द्वारा हाईकमान को लेकर जो टिप्पणी की गई है उसने यह स्पष्ट कर दिया है कि हाईकमान निर्णय लेने में कितना पीछे है।

कुल मिलाकर सुमित्रा महाजन के बारे में यह कहा जा रहा है कि उन्होंने टिकट की जिल्लत से बचने के लिए ही अपने आप को पीछे हटा लिया। अब यही स्थिति केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की भी बताई जा रही है। उन्हें पहली सूची में पार्टी ने मुरैना से प्रत्याशी घोषित कर दिया लेकिन उन्होंने कार्यकर्ता सम्मेलन में कह दिया कि मुझे ही नहीं पता कि मैं मुरैना से चुनाव लड़ूंगा या नहीं लेकिन यह जरूर है कि कहीं से भी चुनाव लडूं।

must read: ताई बोलीं, नए साल में पार्टी के लिए लिया नया निर्णय | Tai said, new decision taken for party in New Year:

अब सवाल इस बात का है की पहली सूची में नाम आने के बाद भी तोमर इस तरह की बात क्यों कर रहे हैं? कई लोगों का कहना है कि संभवत उन्हें मुरैना से भोपाल भी भेजा जा सकता है। इधर प्रज्ञा ठाकुर के नाम को लेकर भी कई बातें चल रही है। प्रज्ञा ठाकुर को भारतीय जनता पार्टी के कई लोग दिग्विजय सिंह के खिलाफ खड़ा करने के लिए जुगत लगा रहे हैं। इधर सागर संसदीय सीट से मौजूदा सांसद लक्ष्मीनारायण यादव का नाम अभी तक सामने नहीं आने से उन्होंने फेसबुक पर ये लिख दिया कि पार्टी ने यदि पैराशूट उम्मीदवार दिया तो उसका बहिष्कार किया जाएगा।

और उन्होंने फेसबुक पर यह भी लिखा कि फिर एक बार सागर का चौकीदार। जब इस पोस्ट को लेकर बवाल मचा तो फिर उसे डिलीट कर दिया गया। पता तो यह भी चला है कि लक्ष्मीनारायण यादव द्वारा सागर सीट को लेकर हाईकमान के कई नेताओं के सामने अपना पक्ष रखा गया है। कुल मिलाकर भारतीय जनता पार्टी में टिकट वितरण को लेकर हालात अच्छे नहीं बताए जा रहे हैं। आने वाले दिनों में जिन सीटों पर भी उम्मीदवारों की घोषणा होती है वहां से भी असंतोष के स्वर सामने आने वाले हैं। इधर इंदौर में भी ताई के पीछे हटने से असमंजस की स्थिति बन गई है।

must read: तो क्या अब इंदौर में ताई युग की समाप्ति हो जाएगी? | So will the end of the Tai era in Indore now?

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com