Breaking News

शासन द्वारा हर साल गरीबों को मुफ्त में दिये जायेंगे 10 लाख आवास – शिवराजसिंह

Posted on: 28 May 2018 05:11 by Ravindra Singh Rana
शासन द्वारा हर साल गरीबों को मुफ्त में दिये जायेंगे 10 लाख आवास – शिवराजसिंह

इन्दौर: मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज दशहरा मैदान में असंगठित श्रमिकों और तेन्दूपत्ता श्रमिकों को सम्बोधित करते हुए कहा कि राज्य शासन गरीबों की हितैषी सरकार है। पिछले तीन माह से असंगठित श्रमिकों का पंजीयन चल रहा है, जिसमें प्रदेश की 80 प्रतिशत जनता कवर हो जायेगी। मात्र शासकीय सेवकों और आयकरदाताओं तथा ढाई एकड़ से अधिक जमीन वालों को असंगठित श्रमिकों के रूप में पंजीयन कराने की पात्रता नहीं होगी।

असंगठित श्रमिकों को जन्म से मृत्यु तक अनेक लाभ दिये जायेंगे। बच्चा पैदा होने पर 12 हजार रूपये, पंजीकृत श्रमिक का बच्चा स्कूल जाने लगेगा तो उसे पहली कक्षा से पीएचडी तक की ट्यूशन फीस राज्य शासन भरेगा और छात्रवृत्ति भी देगा। असंगठित श्रमिक की पुत्री की शादी के लिये आर्थिक सहायता दी जायेगी। पंजीकृत श्रमिक की मृत्यु होने पर दो लाख रूपये, दुर्घटना में मृत्यु होने पर चार लाख और मृत्यु उपरान्त अन्त्येष्टि सहायता के रूप में पांच हजार रूपये दिये जायेंगे।

DSC_0608

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि असंगठित श्रमिकों में कृषि श्रमिक, तेन्दूपत्ता श्रमिक, ठेला चलाने वाले, घरों में काम करने वाले, फुटपाथ पर सामान बेचने वाले, जंगल, खदान में मजदूरी करने वाले अर्थात हर तरह के मजदूर शामिल हैं। राज्य शासन की मंशा है कि सबका साथ, सबका विकास हो। धरती, पानी, हवा, जंगल, खदान पर सबका अधिकार हो। असंगठित श्रमिकों में जातपात का कोई भेदभाव नहीं है। असंगठित श्रमिकों में सामान्य वर्ग, अन्य पिछड़ा वर्ग, अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति वर्ग के लोग शामिल हैं। जनकल्याण की दिशा में यह एक ऐतिहासिक कदम है।

श्री चौहान ने इस अवसर पर घोषणा की कि प्रदेश के सभी गरीबों को 2022 तक पक्के मकान मिलेंगे। हर साल 10 लाख नये पक्के आवास बनाये जायेंगे। ये आवास कच्चे मकान या झोपड़ी में रहने वालों को दिये जायेंगे। मकान की राशि ग्रामीण क्षेत्र में हितग्राही के खाते में जमा की जायेगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राज्य शासन गरीबी और अमीरी के बीच अन्तर मिटाना चाहती है। असमानता मिटाने के लिये पंडित दीनदयाल उपाध्याय के अन्त्योदय सिद्धान्त के तहत काम किया जायेगा। पंडित दीनदयाल उपाध्याय गरीब को ही नारायण या भगवान मानते थे। उनका सिद्धान्त था कि गरीबों की सेवा ही ईश्वर की सेवा है। कोई भी सरकार गरीबों की उपेक्षा नहीं कर सकती। गरीबों को ही सम्मान के साथ जीने का अधिकार है। म.प्र. शासन पंडित दीनदयाल उपाध्याय के अन्त्योदय सिद्धान्त के तहत गरीबों के कल्याण के लिये काम कर रहा है। राज्य बीमारी सहायता, बीपीएल राशन कार्ड, कर्मकार मण्डल श्रमिक कार्ड, अन्नपूर्णा योजना, छात्रवृत्ति योजना, आवास योजना, रोजगार गारंटी योजना के जरिये प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से गरीबों की मदद की जा रही है।

    DSC_0648

अगस्त से आयुष्मान भारत योजना शुरू होगी

श्री चौहान ने घोषणा की कि आगामी 15 अगस्त से केन्द्र सरकार की मदद से आयुष्मान भारत योजना शुरू की जायेगी। यह योजना राज्य बीमारी सहायता योजना का विस्तारित रूप है। अब गरीबों का इलाज पाँच लाख रूपये तक शासन द्वारा कराया जायेगा। केन्द्र और राज्य सरकार द्वारा जनकल्याण की दिशा में यह एक महत्वपूर्ण कार्य है। अब कोई गरीब इलाज से वंचित नहीं रहेगा। श्रमिक सम्मेलन में उन्होंने पाँच लोगों को चरण पादुका पहनाई और पानी की कुप्पी भेंट की तथा प्रतीकात्मक तौर पर श्रमिकों को श्रमिक पंजीयन प्रमाण पत्र वितरित किये। श्री चौहान ने रातूबाई, अमलेश, बसंती, जयपाल, प्रकाश और सामरिया को चरण पादुका और पानी की कुप्पी भेंट की।

इस अवसर पर महापौर श्रीमती मालिनी गौड़ ने कहा कि राज्य सरकार गरीबों के कल्याण के लिये कृतसंकल्पित है। राज्य सरकार के निर्देश पर नगर निगम इंदौर द्वारा दो लाख से अधिक असंगठित श्रमिकों का पंजीयन किया गया है। पंजीकृत श्रमिकों के बच्चों को छात्रवृत्ति, कन्या विवाह सहायता, अन्त्येष्टि सहायता आदि का लाभ दिया जायेगा। असंगठित श्रमिकों में मजदूरी करने वाले सभी वर्ग के लोग शामिल हैं। शासन की मंशा है कि लोक कल्याणकारी राज्य में सभी वर्ग के लोगों का जीवन सुरक्षित हो। राज्य शासन द्वारा 23 प्रकार के मजदूरों को 1 रूपये किलो गेहूँ, चावल और नमक दिया जा रहा है।

DSC_0682

कार्यक्रम में गृह निर्माण मण्डल के अध्यक्ष श्री कृष्णमुरारी मोघे, लघु उद्योग निगम के अध्यक्ष श्री बाबूसिंह रघुवंशी, आईडीए अध्यक्ष श्री शंकर लालवानी, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती कविता पाटीदार, विधायक श्री सुदर्शन गुप्ता, श्री मनोज पटेल, श्री रमेश मेंदोला, श्री राजेश सोनकर, श्री महेन्द्र हार्डिया आदि मौजूद थे। कार्यक्रम में कमिश्नर श्री राघवेन्द्र सिंह, एडीजीपी श्री अजय शर्मा, कलेक्टर श्री निशान्त वरवड़े सहित अनेक अधिकारी मौजूद थे। कार्यक्रम के अन्त में आभार प्रदर्शन एडीएम श्री कैलाश वानखेड़े ने किया।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com