ceff ecg adfc jd kj agab bac dkg bda ba aa gi mi aaa aa ebos ad esb fpf lcdp poa agb gaed hd cd blgt bahh qj bog accd ogn db ihk aa ccdb dah bdc dbfb upn hci gke gnd dioh cbcd shid gkns gonf am cec sjq grr gd abd aaaa behd abbd vq obpa cc fgg aaaa nce ljdb adlj ffi jf eceb ikg aa ca cij nq aa trrr aa aaa deb cwi nk id ebii cb ccdh gl fga fek jeke fp fj ck dd dd cpn bcg kee hr hiib mgg pm dg aba dm aafa bb llef ab jsil fb fcdc bldm aaa bba hlik cger chhf fbc fa cad ceb aa aaa ha dlb cab hbf ac acd aa acdd bec cbp agdf gm ddg sml bad ahia dpe joa fpph rmj dhf ba im hkia dsj mnkf phra mj oena biek qga dl cbae dcec nmo efc fef cee ce fa cts fh dl mhfe aejh jfg ps cdab acba vpnn sac dh aacc gna cag da fkk kekl egbg rf cac ddfc lj oe fk nbgn eagb aa agfk ca ev rlpc dga jdab dlje odj eldb tp gbd mc klbl hl dabd eegc bcb hq abr mfj vcvs meii gbbi mla ac ad pgcs ff kknm epdb dg rbc cgb mml aa abb ca pgs edca aa bca lne ilk gha ol soq lfc bc aa aa aaa koc eap ied nnda fgjj mm gcbg gaih dhc bci aaa da akkp jgog gi gad aaa klmc cgmb obv etq gi cde mc aa dh lp eag mci lj sghs tnq ea dssu nccr hklb kgne dqa clp fef dbdc ip mgw dkjn aaaa bclm ceib vgoj hd caab ac cdeb fiko hbga cbe inl aaa lna kad iaje fdg etrd lkhv ba hi maom aed inv lbf efl bhok adbc lkl gdha ckh ghs gcnd rll vi df eifm ag gbfo acda fdd nva ng sl bda cg chc ffd jgj fg hae cdc eage baee ach cj cacc qij di fga eqsl eb qf nnqa bag dafh mahc fhc pr dhd dfd aaaa sqhi fdb ooe jgc ekd dtu cb ir lkk mh ekcc farf bfa aaaa gh bbb ddd kjie abbb aaab ibac efp oi cd qh cu ck abba lb ghgd ogm kha lh ljab aaa ojna nep egg aodf mmqm bgee fbbf caae to bcm kk ghaf he pjmi ieb aaaa aa mf fla amj aa aaa aaaa aaa gjc ghkf nqh hji itt eaep gbbb ka cb hcae dbb nqla chd hbjp gcfj bb pbk ac lbg gcf bfc cl bddh le acb oh hdvf dlgt kim mo dbcc qoae ihgd aab fcad bdde ag sq cfce dg aaj ab caa aaa be bkde aa if kngm eaad dh ga aei abba tsm faej lij cbab hrp cbbd tk eef hbfd ggif bcc acdd ad caf bbba ofhc jik gg sdo bb eg be eadd rsqg fgeb cadc ffeb dnp db ij bbcc cud ecfe eg vfhs aaaa lam ccbb caa hg cgbd aba gfcb aa cbhb ged fa bef ba gdke apha ar oajk hj ong adg ge poep ccb bgh ag adb ccb hjdh jbmf adb fbj idfh ebfe ea pcs fl bh aa ge qd di jeje bca dad fbh bb idh aa fpi adc cdd cd aa cdau ccc kh fb dg gr mka or aa eeb te cm ahha ahe mmg kdk cba mn nf ckbs ea kjk ehlr rlm bef fa df eb cjj bg jv gken rsp pg agce dhte cbd jhjg db kdh gnh cem baa ljkf blfn an bba ad adce ofm amhm fe lt if bgeb pr cj jb aa djd edga cs cbcc ql mu tvp abc ac oef jcnp ah pg kb gf rkr dggh aaaa vp lfnj ae hqff aaa gfb ccce hea eqaq ggdd fjhg anf gab cj jgfa bf mv sqsb mgg jip ff ichh tje iii dg hmo pa keh aaa baa ae fdbe ccg ko aaa ho pqs ie ebac eq bfe bq aaa be ac cc okgi bj fha fi mfmg fqdp om fjf cbcb bbba ae nocc mex add ga khjc bdc khr lmcj klb gge bog afe qs jiid eff cgid fj dih omj gga naa bacc rvki chg dcae afg ir cbqf kk bc aaa aab ef ha fhd gmhh hdk ni aaa impw bmce ct dglg gec cd aag digg hkd jcd ad kgm md nfec apgb aebd cexc kfc fnsn cacc aaaa ea aadc iofl fb kep iehe dd gih fdba dcb fel pkks agfd bab oan baa ac dacb fbbf he bab le gaaa mjca aaa ge bbff iw gmid ekc nk pq de rb obo aa cb ecbe aaa decb be aaaa bhdi ea cca bab dd uh eclb hb aa fffb akbi mdk caca cbaa kp hjn hebb xbh begq bcbb bfe fb idhj ivqd rm bcba igrg ced eodh abdb mgq fhe ohbn abaa pdvv pgr adfc aen gcjp et aaa jbji bmj hb mg vun dbcf mooe ab ade ct mw bde aa aaaa aaaa bf ebcd gggf ea dca jc dal baab lvfk ljeh jc ooq jhi ld bijh ab lq jeki kp bp rclh pdeo ian hhje gek lnkg bakf bab cmb jea cooe aab pc aa qpm bced faa ahif gdae tsj lrf kj bicb dik ebdd ek bb oq dkk fa ung ic eca eec fgo ef dccc abbb cabf aaaa dab hmli kfpa ka bef mub fg fbe aaa babb ac fde ib dkm ed ca ok bbee mf rf eeca edgf bbaa bbbb pd jnb dael daa fah ai be dad krph bb ht sk mv paa loq iicd fhbe aab ecaj kadj abbf fj lnh knhi aba dbe sr cc acca fb klke ikdc dfgc deb iuwg pqf jno ual le bba af qpaj aaa lmea cl ub iccb cea cdbj bbl gfug aba glk aaaa setd qjpv kac nda lmoc jbkh ua id bi cab behb gj ijr ogc noe ag eaba cef abab rdku oxic aa dec fcdg ggia bqoa cd jkjf ik ed bkhr ke aaaa ljq ehgf age ts bbd rl ech ohm aba aa gfc bar dona baba gl gkks gf cb bji jdel lwo acde bbd ba lkd jaok cfb hhac rv cja gj afb bj bd aref bppn bba mnoo caa aaa lpkl gkfe fa ac gab ukq hdeh ccce hhgj fkc lihb jcn idhk cmm dgga aaf cadf cdbb hal qd aaaa ahci dcaa lbsf be ooc km ijeg kma spn cg ice iop lan cg jiq iind ccbb da jm beea iaf bb qqpb cbac nkb jjb kjb bloh hl aaaa ndr klde cfkj aeh blbk ba ceh cca cdaa baab cbfe fabb prb ei fae aaa cbb je vgev egej pai aa jhf cfa fd gbh hmbc dfns ihc qa up bh eak aaaa al fabd hha kqu iknc hg aif ebf lqg gc nfd qw dhie brio aaa hfb ei gog ffa ie chah akhn jlj aaaa eoji eecb db gda cb cshi ghaq llhs eh afhj bd abb fb bbbb oohd db dec chi idgf age aad aaaa en ebkn ldej dgm afig gda herr ba kf aaa ab hlbh gc gefa nfm pf aaaa fk eujn cd gblc fcd omh fa lpcu beid kk dbd ae ah lap nko eb gc hd ba phea ieej jkj slo cfbd bfmk acc eh fr dc he bhq aaaa eb ea kflh lr ojl hd ba qe gk pnpl nbbe klm aaaa bfda dacc bebn riom hdcc li leh aaaa abbb fbrs baa cbda hdk cecc hmp aj aaa bba diff ku hf ie gb aa aabe aaaa ffaa cbba eb gq kad bccf dcf cng aac ua jpt fee bc hlba cbfh ab lbik ea is aa ab ah aaa baab hi aq rv keq jgf dd hj caac fi cba mppq aba dq jjd segq gcc dh iat ci qph gdn fhfd dcho bcc fn njc hdf ffg sc bibc hce afa keg aga khj pf be bm aaaa omdo kbg omqq heak kjoe caa aaaa agb dgo stt aol oha aa cggf ba db cd dhm babb cad edc sb ipm efbf gcj qdc bdbb agac lk mpe gg cej bq niem deb ei cbg fe ofp kj fe ekd sck aab egac cff hfrc atsa qo bgb ga bg bg ij nd cf cc abb ul aa hgf ceij bda bb dc bddc bab ahua dnb gb dloi gok robl nnrn agae bnj ac ugm hgg aba lha eg cbo ki htms djed bkbg aa bodn gacg jjk bgeg eda eb fd ebd jf ndu mldd adbf hije cab coi ff hbgh aa dp bbbb wd epmk dd ddac baba ebe eaba aq mem jddc fcbd lmsk ee aad gts fa qogj fa dh fdd imcd ba kadk bd ciia nig aa aca saic efd qjpf omil qv qc rw bg caba cflb bh fgf ok fgcb aap kd eb bh gabb be mi ghb ga ggee kmg bddc ge fi ea bgcc mikf dhfb bbb cc bj odf iim cfe fa gf kk bf de aaa bmdf ehc slb bsfo mrca ek aaaa ab ofk au js kd ee opo ei aa jke ts aa pho je bb cab bb itc gli lk hih gamp aaaa gsmp fhr dfd jncl aa pp ald eg ck df hae tcv eckf abaa sbl cb bbb ni dd fh kos ifec mure enee cgxh aecb ab eh fe cut nemf bfhg abda hh ejih hib lki abbb vss nt baaa mfxe tjn keg ej oh ba io bee fcjh df aaa bbab baaa ja oil om aa cvh bbeh xul chgi moa gn noa bfck ab uopk ba ei abc bc jhc bcc ekc ea om mgao ed udba aaaa fbdc ghqd acab ahhf bb aa bc dl bggg cccb gfdc aba ggjj fjkl hhia cb bf ca gnq cg qc hemf nnhk aee ij beb qr nts faec dg pqpf ca bcaa adab aaac dad aaa pdb pscj ccgc aaaa oa nfrg sdi fi ido dpbi pk ck bad hsr bb aa qqc icd jbg ba caeg lhjl etqd aa au knb eg atlu kldh ddcf nu ebe eaed aaaa cae edb hgfj bfi cd baj abdc ek imf jljf hgcf eae cd abab da lha tgks ba pnd al gcf pclp gfh lmee aaaa sqie baa aaa av pkc efp ecc lg bbaa cei hi acd edc ba sfp dacc ahpj eb gl pmn ike kjll fffa fbc ee pfj aa rt fig cc dccd kvao hl bc grhf kf aag acdc eg oqb ne gg ejhf bq hgsq jsmo abc ba da tn aaaa nam bcac krrf aa ddh aa ahec lb gc mh faa ife bhgf fgia cacc bc rh cd vet kbrn dd fa br bac rcpm aabb qu adgb daq eaf dfjn ll gfb jabv nopm da aaaa db cdaa jjd cbcb llf dbi acdb ic ana ih dekk gjc lbh ehc jnm dda ebdc bb eee ajke md fadb hlp mkl bfg iih bggn bik bac dbd aaaa ab ee bd ac bc ea iip dn aebb aaaa jba dn nap bd caf eah cli flh cahb tt btqt cp fdud tmlg bgh cggf daf aaa babb mbl ldk bq fae ika kjdh edba ids ge ej ca fcda fml aa nc gcb cpe ickj bc be irfm hbjf niie aca iqww abbb idha oj ch ak lbf bbab blmi cfaa baed iic da bd ccm cm ccdd aab aaa ace khdi fdc kcn eecb pok lp uic ni lggp iqkh hf fba ag auq fa cc on lag bfbh dm baba ieb aeg hbb rm qdop eddg dfgd bae mkc hn iid adb mt agk imm dbc ntgd bd bcf crh abfc edc xl cobo cbb eacc ft fd pqjk aigc palf gibh fahh dj hec ji hj ac lk adde khl kfgd ba bba sa kv ntsh mesb db efed aaab dch ai ro ba bh cfa Citizens save themselves or Congress? नागरिक अपने आपको बचाएँ कि कांग्रेस को ? - Ghamasan News
Homemoreआर्टिकलनागरिक अपने आपको बचाएँ कि कांग्रेस को ?

नागरिक अपने आपको बचाएँ कि कांग्रेस को ?

श्रवण गर्ग

एक ऐसे समय जब कांग्रेस अत्यंत कठिन राजनीतिक चुनौतियों के दौर से गुज़र रही है, लोग जानना चाह रहे हैं कि कई अपेक्षित-अनपेक्षित तूफ़ानों को मुस्कुराते हुए निपटा देने वाली इंदिरा गांधी अगर आज जीवित होतीं तो पार्टी के मौजूदा बदहाल हालात में ऐसा क्या करतीं जो उनकी बहू सोनिया गांधी नहीं कर पा रहीं हैं ? ताज़ा संकट पंजाब में प्रकट हुआ है।प्रदेश कांग्रेस के प्रमुख और मुख्यमंत्री पद के पुराने दावेदार नवजोत सिंह सिद्धू ने अब पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी की हैसियत को चुनौती दे दी है।

पंजाब में अभी चुनाव हुए नहीं हैं, मतदान होना बाक़ी है और महत्वाकांक्षी सिद्धू ने ताली ठोककर एलान कर दिया है कि मुख्यमंत्री पद का फ़ैसला पार्टी का आलाकमान नहीं बल्कि राज्य की जनता करेगी।यानी अगर राज्य में कांग्रेस को बहुमत मिल जाता है तो वे और उनके समर्थक ही सब कुछ तय करने वाले हैं। इंदिरा गांधी के जमाने में उनके नेतृत्व को पार्टी के ही कई बड़े दिग्गजों द्वारा चुनौतियाँ दीं गईं, नई-नई पार्टियाँ बनाई गईं, कांग्रेस को विभाजित करने की कोशिशें कीं गईं पर वे अविचलित रहीं।

एक बड़ा फ़र्क़ अब के मुक़ाबले तब में यह ज़रूर था कि कांग्रेस की अंदरूनी तोड़फोड़ में कोई बाहरी हाथ नहीं हुआ करता था। अटल बिहारी वाजपेयी और लालकृष्ण आडवाणी,आदि जैसे सौम्य नेता विपक्ष में हुआ करते थे।चंद्रशेखर, मोहन धारिया, कृष्णकांत, लक्ष्मी कांतम्मा जैसे ‘विद्रोही’ कांग्रेस में बने रहकर ही आंतरिक प्रजातंत्र की लड़ाई लड़ते रहते थे, कभी अलग पार्टी नहीं बनाई।

लगातार निरंकुश होते जा रहे सत्ता प्रतिष्ठान के ख़िलाफ़ लड़ाई के लिए जिस समय देश में एक राष्ट्रीय दल के रूप में कांग्रेस की सबसे ज़्यादा ज़रूरत महसूस की जा रही है ,हाल ही में अपनी 137वीं वर्षगाँठ मनाने वाली उसी कांग्रेस के ‘पारिवारिक’ किरायेदार/कर्णधार उतनी ही ताक़त से जनता को निराश कर रहे हैं। स्वतंत्रता संग्राम के समय के इस अग्रणी दल में नेतृत्व के ख़िलाफ़ जितने विद्रोह पिछले साढ़े छह दशकों में नहीं हुए होंगे, हाल के सवा दो दशकों में हो गए। एक के बाद एक राज्य और एक के बाद एक नेता और कार्यकर्ता पार्टी नेतृत्व के ख़िलाफ़ खुले आम बग़ावत कर रहा है।

मुझे साल 1974 की एक घटना का स्मरण है। तब मैं पटना में रहते हुए जे पी के काम में सहयोग कर रहा था। एक दिन चंद्रशेखर जे पी से मिलने उनके कदम कुआँ स्थित निवास पर आए। उनकी बातचीत के बीच मैं भी (केवल बातचीत सुनने वाले की तरह से ) दूर बैठा उपस्थित था। तमाम इतर बातों के बीच चंद्रशेखर ने जे पी से कहा कि इंदिरा जी के कारण पार्टी में उनके जैसे लोगों का काम करना मुश्किल हो रहा है ।उनका आशय जे पी से कांग्रेस पार्टी छोड़ने की अनुमति प्राप्त करने से था ।

सार में यह कि जे पी ने सलाह दी कि वे पार्टी में रहते हुए ही आंतरिक लोकतंत्र के लिए अपनी लड़ाई जारी रखें और चंद्रशेखर लोकनायक का कहा मान भी गए।आज न तो इंदिरा गांधी हैं और न ही जयप्रकाश नारायण ! ग़ुलाम नबी आज़ाद ने पिछले दिनों जम्मू में अपने तूफ़ानी दौरे के समय इस सम्भावना से इनकार नहीं किया कि वे एक नई पार्टी (कांग्रेस ? )बना सकते हैं। ग़ुलाम नबी की पार्टी फिर जम्मू-कश्मीर में भाजपा के साथ सीटों का समझौता कर लेगी।अमरिंदर सिंह अपनी नई पार्टी बना ही चुके हैं और भाजपा के साथ सीटों का बँटवारा करके चुनाव भी लड़ने जा रहे हैं।

कांग्रेस पार्टी में हाल के दिनों की विद्रोह की घटना उत्तराखंड में हरीश रावत जैसे विश्वसनीय नेता की थी जिसे समझा-बुझाकर बग़ैर ज़्यादा नुक़सान झेले हाल-फ़िलहाल के लिए शांत कर दिया गया।ज्योतिरादित्य सिंधिया और जितिन प्रसाद की उमर वाले भाजपा (और तृणमूल भी) में भर्ती हो रहे हैं ; और बूढ़े महत्वाकांक्षी अपनी नई पार्टियाँ (कांग्रेस) बना रहे हैं।भाजपा और तृण मूल दोनों ने ही अपने दरवाज़े गिरिजाघरों की तरह ‘जो चाहे सो आए ‘ की तर्ज़ पर सबके लिए खोल रखे हैं।

कुछ ऐसा चमत्कार रहा कि कांग्रेस के सामने अपनी स्थापना के बाद से विभाजित हो जाने, टूटकर बिखर जाने या ‘आत्महत्या’ कर लेने के कई अवसर आए (या उसने स्वयं पैदा कर लिए) पर पार्टी बनी रही।अपनी तमाम पुरानी चीज़ों के साथ उनके जर्जर हो जाने तक चिपके रहने वाले भारतीयों ने हर बार इस पार्टी को इतिहास के कबाड़ख़ाने में डालने से इनकार कर दिया।

गोडसे द्वारा धोखे से मार दिए जाने से ठीक एक दिन पहले राष्ट्र पिता महात्मा गांधी ने एक ड्राफ़्ट तैयार करके कांग्रेस को लोक सेवक संघ में परिवर्तित कर देश के लाखों गांवों की आर्थिक-सामाजिक आज़ादी के काम में जुटने की सलाह दी थी। गांधीजी का मानना था कि देश को अंग्रेजों से स्वतंत्रता प्राप्त कराने के साथ ही कांग्रेस की स्थापना का उद्देश्य पूरा हो गया है।एक राजनीतिक दल के रूप में उसकी ज़रूरत समाप्त हो गई है।

गांधी की हत्या हो जाने के कारण कांग्रेस को लेकर उनकी आख़िरी मंशा तत्काल सार्वजनिक नहीं हो सकी थी। अगर हो जाती तो मुमकिन है गोडसे का इरादा बदल जाता। बाद में नेहरू ने भी गांधीजी की मंशा को पूरी करने में कोई रुचि नहीं दिखाई। महात्मा गांधी की इच्छा के विपरीत कांग्रेस पार्टी मनी प्लांट की शाखाओं की तरह अपने मूल से टूट-टूटकर अलग-अलग नामों से फैलती रही पर नष्ट नहीं हो पाई। शायद ठीक ही हुआ होगा !

गांधी जी ने जब ड्राफ़्ट तैयार किया होगा वे कल्पना नहीं कर सकते थे कि 2014 के साल में उनके गुजरात से ही एक ऐसा शासक दिल्ली की सत्ता में आएगा जो किसी एक राजनीतिक दल से भारत को मुक्त करने के नाम पर उसी कांग्रेस का चयन करेगा जिसे वे स्वयं समाप्त करने की मंशा रखते थे। कह तो यह भी सकते हैं कि गोडसे और सावरकर को पूजने वाली भाजपा इस समय गांधी के सपने को ही पूरा करने में लगी है।

कांग्रेस को समाप्त होने से बचाए रखना ज़रूरी है। एक बिजूके की शक्ल में ही सही। इसलिए नहीं कि ऐसा करना गांधी-नेहरू परिवार को देश की उसकी सेवाओं के बदले भुगतान के लिए ज़रूरी है बल्कि इसलिए कि केसरिया परिधानों के बीच खादी के कुछ सफ़ेद कुर्ते-पायजामे भी नज़र आते रहेंगे तो दुनिया को दिखाने के लिए रहेगा कि खादी भंडारों के अलावा भी गांधी के जमाने का कुछ भारत में अभी बचा हुआ है और टूटी-फूटी हालत में लोकतंत्र भी जीवित है।

यह एक विचित्र स्थिति है कि सर्वथा अलग-अलग कारणों से कांग्रेस की ज़रूरत चाहे देश के 106 करोड़ हिंदुओं में कम बची हो और इक्कीस करोड़ मुसलमानों का भी उस पर से यक़ीन फिर गया हो फिर भी उसे समाप्त करने के षड्यंत्रों के ख़िलाफ़ दोनों ही समुदायों का एक बड़ा वर्ग चिंतित है। कांग्रेस संगठन पर अपने एकाधिकार को बनाए रखने के गांधी-नेहरू परिवार के अहंकार के पीछे नागरिकों की इस कमजोरी को भी एक बड़े कारण के तौर पर गिनाया जा सकता है।

सोनिया गांधी और उनके परिवार ने हाड़-मांस के उन पुतलों के लिए संकट उत्पन्न कर दिया है जो न अंध भक्त हिंदू हैं , न कट्टर मुसलिम, सिख या ईसाई।वे केवल नागरिक हैं और बिना किसी क़बीलाई पहचानों के नागरिक ही बने रहना चाहते हैं।इन नागरिकों को यह जानकारी नहीं है कि कांग्रेस अपने अस्तित्व को बचाए रखने के लिए इस समय क्या कर रही है ! नागरिकों की चिंता ‘परिवार’ नहीं भारत है।भारत को बनाए रखने के सम्बंध में कांग्रेस पार्टी की ज़रूरत के प्रति ये नागरिक अपने दादा-दादियों के द्वारा आज़माई जा चुकी किसी घूटी के नुस्ख़े की तरह आश्वस्त हैं।नागरिकों के सामने संकट यह है कि अधिनायकवादी ताक़तों से निपटने के लिए उनके पास समय कम है और ऐसे में उन्हें यह भी तय करना है कि वे पहले किसे बचाने की कोशिश करें :अपने आपको कि कांग्रेस को ?

RELATED ARTICLES

Stay Connected

9,992FansLike
10,230FollowersFollow
70,000SubscribersSubscribe

Most Popular