Breaking News

21 साल तक राज करने वाला CID बंद, अब नजर नहीं आएंगे ACP प्रद्युम्न

Posted on: 23 Oct 2018 11:57 by Ravi Alawa
21 साल तक राज करने वाला CID बंद, अब नजर नहीं आएंगे ACP प्रद्युम्न

CID Sonys cult police procedural show to go off air after 21 years

टेलीविजन का एक ऐसा क्राइम शो जिसने लंबे समय से घर-घर में एक अलग ही पहचान बनाकर रखी है. जिस शो को देखने के लिए लोग अपनी घड़ी में देखकर इंतजार करते थे कि कब ये शो चालू होगा. जिस शो ने लोगों में एक रोमांच भरकर रख दिया था. वह शो अब लोग नहीं देख पाएंगे.

बर्थडे स्पेशल: अमरेंद्र ‘बाहुबली’ यानि प्रभास,जिसने रच दिया इतिहास

जी हां हम बात कर रहे है, लंबे समय से चल रहे क्राइम शो CID की जो जल्द ही ऑफएयर होने जा रहा है. अब आप इस शो के बंद होने के बाद ACP प्रद्युम्न के प्रसिद्ध डायलॉग, ‘कुछ तो गड़बड़ है. दया दरवाजा तोड़ दो’ को काफी मिस करेंगे. क्योंकि दया के सामने दुनिया का कोई भी दरवाजा आज तक टिक नहीं पाया है.

Via

क्राइम शो CID ने 21 साल तक लोगों के दिलों पर राज किया है. 1997 में इस क्राइम शो ने दर्शकों के बीच छोटे पर्दे पर दस्तक दी थी. जिसके बाद इस शो ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. यह शो अपने हर एपिसोड के साथ और अधिक फेमस होता चला गया. क्राइम शो CID ने कुछ समय पहले ही अपने 1546 एपिसोड्स पूरे किए है.

Via

इस क्राइम शो में दर्शकों ने शिवाजी साथम को ACP प्रद्युम्न के रूप में काफी पसंद किया हैं. इसके साथ ही शो में दयानंद शेट्टी को दया, आदित्य श्रीवीस्तव को अभिजीत की भूमिका में दर्शकों ने बहुत प्यार दिया है.

Via

खबरों के मुताबिक 27 अक्टूबर को क्राइम शो CID का आखिरी एपिसोड ब्रॉडकास्ट किया जाएगा. यह शो कई सालों के बाद आज भी बहुत फेमस है और पसंद किया जाता है. इस शो को पसंद करने वालों को इसके ऑफ एयर होने से काफी दुःख होगा.

Via

सोशल मीडिया पर जब से CID के बंद होने की खबर वायरल हुई है, तब से लोग इस शो को बंद न करने की अपील कर रहे हैं. इसके साथ ही इस शो को पसंद करने वाले कई लोग मेकर्स और चैनल पर सवाल खड़े कर रहे हैं कि वो अचानक क्यों इस क्राइम शो को बंद कर रहे हैं ? इस शो को लेकर जब शिवाजी साथम से पूछा गया तो फ़िलहाल तो उन्होंने कहा कि, उनको अभी इस बारे में कोई भी जानकारी नहीं है. लेकिन इस शो के बंद होने की खबर की पुष्टि दयानंद शेट्टी ने कर दी है.

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com