‘चौकीदार चोर है’: मानहानि मामले में राहुल गांधी को राहत, मिली माफ़ी

याचिका में मीनाक्षी लेखी ने आरोप लगाया था कि राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधने के लिए राफेल डील मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को तोड़मरोड़ कर पेश किया, जिससे कोर्ट की अवमानना हुई है।

0
78
rahul gandhi

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट के लिए गुरूवार का दिन बेहद बड़ा है। आज सुप्रीम कोर्ट राफेल डील, कांग्रेस नेता राहुल गांधी के खिलाफ दायर आपराधिक अवमानना याचिका और सबरीमाला मामले पर फैसला सुनाया है। ”चौकीदार चोर है’ को लेकर सुप्रीम कोर्ट की अवमानना करने के मामले में राहुल गांधी को राहत मिल गई है। सुप्रीम कोर्ट ने राहुल गांधी की माफ़ी मंजूर कर ली है।

राहुल गांधी के खिलाफ ये याचिका भाजपा नेता मीनाक्षी लेखी ने दायर किया था। याचिका में मीनाक्षी लेखी ने आरोप लगाया था कि राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधने के लिए राफेल डील मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को तोड़मरोड़ कर पेश किया, जिससे कोर्ट की अवमानना हुई है।

मीनाक्षी लेखी ने याचिका में आरोप लगाया था कि राहुल गांधी ने अपनी चुनावी रैलियों में बार-बार ‘अब तो सुप्रीम कोर्ट ने भी मान लिया है कि चौकीदार चोर है।’ इतना ही नहीं लेखी ने आगे कहा था कि राहुल गांधी ने कोर्ट की आड़ लेकर पीएम मोदी के खिलाफ बयानबाजी की थी।

गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव के दौरान अपनी चुनावी रैलियों में राहुल गांधी ‘चौकीदार चोर है’ का नारा लगवाते थे। राहुल गांधी का यह बयान राफेल डील पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद आया था। हालांकि मीनाक्षी लेखी के सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करने के बाद राहुल गांधी ने बिना शर्त माफीनामा भी दाखिल किया था, लेकिन अदालत ने तब उन्हें कोई राहत नहीं दी थी।

सुप्रीम कोर्ट ने याचिका पर टिप्पणी करते हुए कहा था कि कोर्ट की ओर से ऐसा कोई बयान नहीं दिया गया है। साथ ही चीफ जस्टिस की बेंच ने साफ कर दिया था कि कोर्ट ऐसी टिप्पणी कर ही नहीं सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here