चिन्मयानंद संत समुदाय से हो सकते हैं बाहर, नहीं कहलाएंगे ‘स्वामी’

लाॅ छात्रा के साथ दुष्कर्म के आरोपों में हिरासत में लिए गए बीजेपी नेता सवमी चिन्मयानंद की मुश्किलें बढ़ती जा रही है। दरअसल, खबरें हैं कि संतों के सर्वोच्च फैसले लेने वाली संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद, चिन्मयानंद को समुदाय से निष्कासित करने की तैयारी कर रही है।

0
55
chinmayanand

प्रयागराज। लाॅ छात्रा के साथ दुष्कर्म के आरोपों में हिरासत में लिए गए बीजेपी नेता सवमी चिन्मयानंद की मुश्किलें बढ़ती जा रही है। दरअसल, खबरें हैं कि संतों के सर्वोच्च फैसले लेने वाली संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद, चिन्मयानंद को समुदाय से निष्कासित करने की तैयारी कर रही है।

परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने शनिवार को परिषद की बैठक के बाद बताया कि चिन्मयानंद को संत समुदाय से निष्कासित करने का फैसला लिया गया है। इसको लेकर 10 अक्टूबर को हरिद्वार में परिषद की औपचारिक बैठक की जाएगी। साथ ही इस निर्णय पर आम सभा की सहमति मंजूरी मिल जाएगी।

महंत नरेंद्र गिरि ने कहा कि चिन्मयानंद ने अपने कुकर्मों को स्वीकार किया है। संत समुदाय के लिए इससे अधिक शर्मनाक और कुछ नहीं हो सकता। उन्होने कहा कि चिन्मयानंद को तब तक निर्वासित रहना होगा, जब तक कि वह कोर्ट से बरी नहीं हो जाता।

बता दे कि चिन्मयानंद फिलहाल महा निर्वाणी अखाड़े में महामंडलेश्वर हैं। वहीं संत समुदाय के इस फैसले को मंजूरी मिलते ही चिन्मयानंद अपनी पदवी खो देंगे और अपने नाम के आगे ‘संत‘ या ‘स्वामी‘ नहीं लगा पाएंगे।

गौरतलब है कि लाॅ काॅलेज की छात्रा द्वारा यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था। इसके बाद एसआईटी ने उन्हें शुक्रवार को गिरफ्तार किया था। बताया जा रहा है कि पीड़ित छात्रा ने यौन उत्पीड़न के एसआईटी को दर्जनों वीडियो भी सौंपे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here