चिन्मयानंद ने कबूला अपना जुर्म, कहा- शर्मिंदा हूं, लेकिन जांच के दायरे में छात्रा भी

बीजेपी नेता और पूर्व गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद को एसआईटी ने शुक्रवार को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। पूछताछ के दौरान स्वामी ने अपना गुमाह कर लिया है और कहा है कि वह अपने किए पर बहुत शर्मिंदा है। साथ ही पीड़ित छात्रा भी जांच के दायरे में हैं। बता दे कि पूछताछ के दौरान छात्रा ने बताया है कि उसकी और युवकों की बात होती थी। इसके अलावा चिन्मयांनंद और छात्रा के बीच करीब 200 बार बातचीत हुई।

0
213
chinmayanand

नई दिल्ली। बीजेपी नेता और पूर्व गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद को एसआईटी ने शुक्रवार को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। पूछताछ के दौरान स्वामी ने अपना गुमाह कर लिया है और कहा है कि वह अपने किए पर बहुत शर्मिंदा है। साथ ही पीड़ित छात्रा भी जांच के दायरे में हैं। बता दे कि पूछताछ के दौरान छात्रा ने बताया है कि उसकी और युवकों की बात होती थी। इसके अलावा चिन्मयांनंद और छात्रा के बीच करीब 200 बार बातचीत हुई।

एसआईटी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मामले की जानकारी देते हुए बताया है कि चिन्मयानंद ने मोबाइल का डेटा डिलीट कर दिया था। हांलाकि चेक इन करते हुए सीसीटीवी फुटेज बरामद हुए हैं। वीडियो के आधार पर स्वामी की गिरफ्तारी की गई है। एसआईटी ने बताया कि एक-दो जगह की फुटेज आना बाकी है। हमारे पास स्वामी के खिलाफ पर्याप्त सबूत हैं। स्वामी ने मसाज कराने की बात भी कबूली है।

एसआईटी के मुताबिक दोनों पक्ष की पेन ड्राइव भी देखी गई है। जिसके बाद बग फॉरेंसिक रिपोर्ट और डिटिटली वेरिफाई करने का इंतजार किया जा रहा है।

गौरतलब है कि स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम (एसआईटी) ने स्वामी चिन्मयानंद को शुक्रवार को हिरासत में लिया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक एसआईटी स्वामी चिन्मयानंद को मेडिकल जांच के लिए जिला अस्पताल लेकर पहुंची, जहां सुरक्षा के लिहाज से भारी सुरक्षाबल तैनात किया गया है। यहां से उन्हें स्थानीय अदालत में ले जाकर पेश किया गया। अदालत ने स्वामी चिन्मयानंद को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

गौरतलब है कि लॉ की एक छात्रा ने पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता स्वामी चिन्मयानंद पर रेप का आरोप लगाया है। इससे जुड़ा एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इन आरोपों के सिलसिले आठ दिन पहले एसआईटी चिन्मयानंद से पूछताछ कर चुकी थी।

वहीं लॉ छात्रा की ओर से लगाए गए आरोपों पर स्वामी चिन्मयानंद का कहना था कि वह जल्द ही एक विश्वविद्यालय का निर्माण करने जा रहे थे। कुछ लोग चाहते हैं कि उसका निर्माण कार्य ना हो पाए, इसीलिए उनके खिलाफ पूरी साजिश की गई है और इसी के तहत आरोप लगाए गए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here