चिदंबरम की गिरफ्तारी राजनीतिक प्रतिशोध की ‘सर्वोत्तम मिसाल’ : कांग्रेस

आईएनएक्स मीडिया मामले में पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम की गिरफ्तारी को लकर कांग्रेस ने शुक्रवार को मोदी सरकार पर निशाना साधा है। पार्टी ने दावा किया है ये मामला बीजेपी की साजिश है।

0
48
jayram ramesh

नई दिल्ली। आईएनएक्स मीडिया मामले में पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम की गिरफ्तारी को लकर कांग्रेस ने शुक्रवार को मोदी सरकार पर निशाना साधा है। पार्टी ने दावा किया है ये मामला बीजेपी की साजिश है।

पार्टी के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने इस मामले को लेकर कहा है कि ये राजनीतिक प्रतिशोध की ‘सर्वोत्तम मिसाल’ है। अगर मंत्रियों के साथ ऐसा व्यवहार किया जाता है तो फिर कोई भी मंत्री फाइलों पर हस्ताक्षर नहीं करेगा।

रमेश ने कहा, ‘कई महीनों से मोदी सरकार की ओर से चिदंबरम जी के खिलाफ निरंतर अभियान चलाया गया है। इस सारे अभियान में एक तथ्य जांच एजेंसियों ने पेश नहीं किया है कि आईएक्स मीडिया मामले में चिदंबरम ने जिस प्रस्ताव को मंजूरी दी उस पर 11 अधिकारियों के भी हस्ताक्षर थे और इन अधिकारियों को अपराधी नहीं माना गया है।’

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘आईएनएक्स मीडिया की फाइल उस वक्त के वित्त मंत्री चिदंबरम को गई थी उसमें 23 और प्रस्ताव थे। चिदंबरम ने 28 मई 2007 को हस्ताक्षर किए। उसी फाइल पर 11 और लोगों के हस्ताक्षर थे। किसी भी अफसर ने कोई आपत्ति नहीं जताई और किसी ने कोई टिप्पणी नहीं की।’

रमेश ने सवाल उठाया है कि ‘अगर 11 अफसरों ने कोई अपराध नहीं किया तो 12वें व्यक्ति ने कोई गलती कैसे की?’ उन्होंने कहा, ‘चिदंबरम के खिलाफ बड़े बड़े शब्द इस्तेमाल किए जा रहे हैं। कहा जा रहा है कि वह किंगपिन हैं। किसके किंगपिन हैं? क्या 11 अधिकारियों के किंगपिन हैं? दरअसल, साजिश पूर्व वित्त मंत्री की नहीं, बल्कि सरकार की है। जो गिरफ्तार हैं वो किंगपिन नहीं है। जो चरित्रहनन का अभियान चला रहे हैं वे लोग किंगपिन हैं।‘

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here