Breaking News

छोटा राजन से भी ज़्यादा ख़तरनाक था बड़ा राजन, इश्क की वजह से गयी जान

Posted on: 02 May 2018 15:14 by Lokandra sharma
छोटा राजन से भी ज़्यादा ख़तरनाक था बड़ा राजन, इश्क की वजह से गयी जान

आज पत्रकार जे डे की हत्या के आरोप में छोटा राजन समेत सभी नौ आरोपियों को एक विशेष अदालत ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. मगर एक कहानी कई कहानियों से मिलकर बनती है. एक नई कहानी तब ही शुरू हो सकती है जब कोई और कहानी ख़त्म हो. छोटा राजन की कहानी भी तब शुरू हुई जब बड़े राजन की कहानी ख़त्म हुई.

दरअसल बड़ा राजन पहले दर्जी की नौकरी किया करता था. जिसमें उन्हें मुश्किल से 25 से 30 रुपए कमा पाते थे. मगर तभी उसकी गर्लफ्रेंड का जन्मदिन आ गया. जैब में पैसे तो थे नहीं लिहाज़ा दफ्तर का इपराइटर चुरा लिया और 200 रुपए में बेच दिया.

इन पैसों से उसने अपनी प्रेमिका के लिए एक साडी खरीदी. मगर जल्द ही राजन पकड़ा गया और उसे तीन सालों तक जेल में रहना पड़ा. उस पर हुई कार्यवाही ने राजन को गुस्से में भर दिया और उसने अपनी गैंग बना ली. इसी गैंग को पहले गोल्डन गैंग और बाद में बड़ा राजन गैंग कहा गया.

राजन जल्द से जल्द अपनी गैंग बड़ी कर रहा था. इसी बीच उसकी गैंग में अब्दुल कुंजू नाम का गुर्गा जुड़ा. मगर कुंजू का कुछ दिनों में ही राजन की गर्लफ्रेंड पर दिल आ गया और उन्होंने शादी कर ली. बस यही से शुरू हुआ दोस्ती से दुश्मनी का सफ़र.जिसका फायदा राजन के दुश्मनों ने उठाया और पठान भाइयों ने कुंजू की मदद से अदालत के बाहर एक रिक्शावाले से राजन नायर को मरवा दिया.

राजन नायर को ही अंडरवर्ल्ड की दुनिया का बड़ा राजन कहा जाता था. जब बड़ा राजन की कहानी ख़त्म हुई तब शुरू हुई छोटा राजन की कहानी. जिसने बड़ा राजन के अपराधों की विरासत संभाली. यह वही छोटा राजन था जो एक समय में दाउद इब्राहिम का काफी करीबी माना जाता था.

मगर यह करीबी छोटा शकील को बिलकुल पसंद नहीं थी. लिहाज़ा छोटा शकील ने छोटा राजन को मारने की योजना बनाई. इसी से दोनों के बीच में दरार आ गयी. फ़िलहाल छोटा राजन सलाखों के पीछे है.

 

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com