सावन में बदली महाकाल की व्यवस्था , भक्तों को नहीं होगी परेशानी

0
236
Mahakal

सावन का महीना शुरु होने में अब मात्र कुछ ही दिन रह गए हैं। सावन महीने में महाकाल के दर्शन के लिए देश ही नहीं बल्कि विदेशों से भी भक्त आते हैं ऐसे में प्रशासन की जिम्मेदारीयां भी बढ़ जाती हैं। सावन माह में महाकाल मंदिर की व्यवस्था को लेकर कई योजनाओं पर काम किया जा रहा हैं। व्यवस्था को लेकर लगभग तैयारियां पूरी हो गई हैं। कलेक्टर शशांक मिश्र अधिकारियों के साथ व्यवस्था को अंतिम रूप दे रहे हैं।

खबरों के मुताबिक इस साल भी दर्शन व्यवस्था लगभग पीछले वर्ष की तरह ही रहेंगी। इसके अलावा पीछले वर्ष व्यवस्था में आने वाली परेशानियों को दूर करने और वीआईपी दर्शन व्यवस्था को पारदर्शी बनाने पर भी जोर दिया जा रहा हैं। सावन माह में दर्शन के लिए प्रतिदिन करीब 20 से 25 हजार भक्तों का आना तय माना जा रहा हैं। भिड़ ज्यादा होने से अधिकांश समय गर्भगृह में आम दर्शनार्थियों का प्रवेश बंद रहेगा। भक्तों को गणेश मंडपम् से भगवान महाकाल के दर्शन कराए जाएंगे। सामान्य दर्शनार्थियों को महाकाल के जलाभिषेक के लिए भी व्यवस्थाओं पर ध्यान दिया जा रहा हैं।

सवारी वाले दिन भीड़ बढ़ जाने के कारण पालकी को सभा मंडप में लाने तथा नगर भ्रमण के लिए पालकी को रवाना करते समय यहां धक्का-मुक्की होती है। ऐसे में सभा मंडप में पालकी पूजन के दौरान सिमित व्यक्तियों को प्रवेश देने पर विचार किया जा रहा है।

वीआईपी दर्शन के लिए भी होगी व्यवस्था

श्रद्धालुओं की संख्या ज्यादा होने के कारण गर्भगृह में प्रवेश ज्यादातर प्रतिबंधित होगा। वीआईपी दर्शन में पारदर्शीता बनी रहे इसलिए भी व्यवस्था पर विचार किया जा रहा हैं। ऐसे में वीआईपी श्रद्धालुओं को पुलिस चौकी के डी गेट से प्रवेश देने पर भी चर्चा हैं।

यह सुविधा होगी निशुल्क

महाकाल धर्मशाला तथा बड़ा गणेश मंदिर के समीप मंदिर समिति अन्नक्षेत्र का संचालन करती हैं। जहां पर भक्तों के लिए निशुल्क भोजन प्रसादी की व्यवस्था हैं। इसके अलावा भक्तों के लिए जूता स्टेंड की सुविधा भी निशुल्क रहेंगी। दर्शनार्थी को बैग आदि रखने के लिए भी मंदिर समिति द्वारा क्लॉक रूम सुविधा भी निशुल्क रहेंगी। भक्तों के लिए मोबाईल रखने और चार्ज करने के लिए भी समिति ने व्यवस्था की हैं। मोबाईल व्यवस्था के लिए 10 रुपए शुल्क रहेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here