Breaking News

E Governance घोटाला की सीबीआई जांच हो

Posted on: 17 Jun 2018 11:03 by krishnpal rathore
E Governance घोटाला की सीबीआई जांच हो

भोपाल:मोदी सरकार में हुए ई गवर्नेंस घोटाले की जांच सीबीआई से कराने की मांग आरटीआई कार्यकर्ता अजय दुबे ने की है उन्होंने कहा कि इस मामले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से जुड़े कई अफसर शामिल है उनके खिलाफ भी कार्रवाई होना चाहिए
मप्र मे IT department का महत्व समझने के लिये यह जानना जरूरी है कि मुख्यमंत्री ने इसे हमेशा अपने सचिव और खास अधिकारी के पास रखा जैसे अनुराग जैन, हरि राव, मो सुलेमान और रस्तोगी. यही manish rastogi जब 2009 मे भोपाल कलेक्टर थे तब एक किसान ने कलेक्टर कर्यालय मे जहर खाकर आत्म हत्या करी थी और मुख्यमंत्री शिवराज रो दिये थे और तत्काल rastogi को हटाया था.शिवराज सिंह रोते हुए के लिए इमेज परिणाम

via

it विभाग ही मतदाता सूची का गोपनीय काम करता है और e procurement का. mponline भी इसके अधीन है जिसके तार mppsc और vyapam घोटाले से जुड़े है और 2012 से दूसरा व्यापम बनकर बड़ी संख्या मे छग और मप्र मे सरकारी नौकरी की परीक्षा लेता है जो की गलत है .टाटा को बिना tender के 2006 मे पूर्व मुख्य सचिव विजय सिंह ने mponline का 10 वर्ष का काम दिया और मप्र सरकार ने 2017 मे 10 साल का extension दिया वो भी tender प्रक्रिया दरकिनार कर जिसमे मो सुलेमान ps की भूमिका महत्व पूर्ण रही .रोचक है की e procurement भी अनुगृहीत tata है देखती हैmp online के लिए इमेज परिणामvia
मप्र सरकार केवल एक बार अधिकारियो से यह शपथ पत्र ले की कितने अधिकारियो के परिवारजन मप्र सरकार की सहयोगी IT companies मे कार्यरत है? पूर्व मुख्य सचिव विजय सिंह tata sons मे director है, शपथ पत्र से सारे रहस्य खुल जाएंगे. मप्र मे congress घोषणा करे की सत्ता मे आने के बाद e governance घोटाला की cbi जांच करायेगी

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com