दिसम्बर तक सभी नाले-नालियों को कान्ह नदी में गिरने से रोक दिया जायेगा

0
28

संभागायुक्त श्री त्रिपाठी

संभागायुक्त श्री आकाश त्रिपाठी की अध्यक्षता में आज कमिश्नर कार्यालय सभाकक्ष में कान्ह नदी सफाई के संबंध में बैठक सम्पन्न हुई। श्री त्रिपाठी ने कहा की कान्ह नदी नाले के स्वरूप में चली गई है। उसको हम नदी के रूप में प्रवाहित करेंगे। उन्होंने कहा है कि सभी नाले- नदी में आकर मिल रहे हैं। उनको टेपिंग के माध्यम से उन नालों को बंद किया जायेगा, जिससे कान्ह नदी में सीवरेज का पानी न मिले। उन्होंने कहा की इस काम को दिसम्बर-2019 तक पूरा कर लेंगे और मेकेनिकल वर्क और इलेक्ट्रिकल वर्क आर्डर कर दिये गये हैं।
उन्होंने कहा कि साथ ही साथ जितने भी नालियाँ और नालों को सीवरेज लाइन से जोड़ना है, ताकि वे पाइप लाइन के माध्यम से सीवरेज ट्रीटमेंट प्लान्ट तक पहुंचेंगे। उनकी पाइप लाइन लेन का काम चल रहा है। वो भी एक लक्ष्य लेकर चल रहे हैं। वह काम भी तेजी से चल रहा है। साथ ही साथ जो 11 स्टॉप डैम्स हैं, जो की नदियों में बने हुये है, जिससे वर्षा जल को संग्रहीत किया जायेगा। उसका सर्वे हो चुका है। स्टॉप डैम्स के गेट बनाने की कार्यवाही चल रही है। अक्टूबर के प्रथम सप्ताह में सभी स्टॉप डैम्स में गेट लगा दिये जायेंगे, जिससे कान्ह नदी में साल भर साफ पानी भरा रहेगा।
इस अवसर पर निगर निगम आयुक्त श्री आशीष सिंह ने कहा की कान्ह नदी में इंदौर शहर के 434 गंदे नाले-नालियां मिल रहे हैं। उन्हें पाइप लाइन के जरिये शहर के बाहर सीवरेज ट्रीटमेंट प्लान्ट में मिलाया जायेगा। अभी तक 12 नाले-नालियों का पानी कान्ह नदी में गिरने से रोक दिया गया है। उसे सीवरेज ट्रीटमेंट प्लान्ट में छोड़ा जा रहा है। 31 दिसम्बर,2019 तक इंदौर शहर के सारे नाले-नालियों का गंदा पानी रोक दिया जायेगा। कान्ह नदी के जीर्णोद्धार का काम संतोषजनक है। कान्ह नदी का चौड़ीकरण और गहरीकरण किया जा रहा है और पक्के घाट बनाये जा रहे हैं।
बैठक में कलेक्टर श्री लोकेश कुमार जाटव, सीईओ स्मार्ट सिटी सुश्री अदिति गर्ग, सीईओ आईडीए श्री विवेक श्रोत्रिय, संयुक्त आयुक्त श्रीमती सपना सोलकी सहित संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here