बंगाल में काला दिवस : सड़कों पर उतरे भाजपा कार्यकर्ता | Black Day in West Bengal: BJP Workers on the Streets organized Rallies in protest of Violence…

0
38

पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव के दौरान शुरू हुई हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। अब तक भाजपा और टीएमसी कार्यकर्ताओं में कई बार झड़प हो चुकी है। इसमें एक दर्जन से अधिक कार्यकर्ताओं की मौत हो चुकी है, जबकि कई घायल हो गए हैं। इसी बीच भाजपा पश्चिम बंगाल में काला दिवस मना रही है। कार्यकर्ताओं द्वारा पूरे प्रदेश में धरना-प्रदर्शन किया जा रहा है।

https://twitter.com/ANI/status/1137961482275024896

इतना ही नहीं, कई स्थानों पर रेल भी रोकी गई है। इधर, केंद्र सरकार ने राज्य में बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर राज्य सरकार को आगाह किया है। इधर, राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करेंगे। इसके अलावा पश्चिम बंगाल की मौजूदा स्थिति को देखते हुए गृहमंत्री अमित शाह विशेष बैठक कर रहे हैं।

गृह मंत्रालय ने ममता सरकार को जारी की एडवाइजरी

पश्चिम बंगाल के मौजूदा हालात देखते हुए केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार को एडवाइजरी जारी की है। साथ ही भाजपा के तीन और तृणमूल कांग्रेस के एक कार्यकर्ता की मौत की भी विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। केंद्र मंत्रालय की ओर से जारी की गई एडवाइजरी में कहा गया है कि राज्य में कानून व्यवस्था बनाए रखने की जिम्मेदारी राज्य सरकार की है।

एडवाइजरी में लापरवाह अधिकारियों पर सख्त कार्यवाही करने की भी बात की हैै। भाजपा के प्रदेश महासचिव सायंतन बसु ने बताया कि खूनी हिंसा में उनके तीन कार्यकर्ताओं की मौत हुई है। जिनकी पहचान तपन मंडल, सुकांत मंडल और प्रदीप मंडल के रूप में हुई है। भाजपा नेता मुकुल रॉय ने ट्वीट कर कहा कि ‘राज्य संदेशखली में तृणमूल के गुंडों ने भाजपा के तीन कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या की है मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भाजपा कार्यकर्ताओं के खिलाफ हिंसा के लिए सीधे तौर पर जिम्मेदार है।’

राॅय ने आगे कहा कि हम गृह मंत्री अमित शाह से मिलकर उन्हें संदेशखली हत्याओं से अवगत कराएंगे।’ वहीं जिले के पार्टी प्रभारी और पश्चिम बंगाल के मंत्री ज्योतिप्रिया मलिक का कहना है कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने पार्टी समर्थक कयूम उल्ला की गोली मारकर हत्या की है। वारदात के दौरान तृणमूल कांग्रेस की बैठक में हिस्सा लेने के लिए जा रहे थे। उन्होंने कहा कि ‘कानून और व्यवस्था राज्य सरकार का विषय है और केंद्र सरकार का इसमें कोई लेना देना नहीं है।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here