विपिन नीमा 

इंदौर: सरकारी योजनाओं का लाभ दिलाया , गरीबो को आवास दिए, महिलाओ को स्वास्थ्य योजना का लाभ पहुंचाया , सेकड़ो युवाओ को रोजगार उपलब्ध कराए – ये बोल है भाजपा के। महंगाई ने जनता की कमर तोड़ रखी है , गेस सिलेंडर के भाव तेजी से बढ़ रहे है, सरकार ने लोंगो के मकान तोड़े, सरकारी अफसर भ्रष्टाचार में डूबे हुए है , ये है कांग्रेस के बोल। जी .. हा .। अब दिसम्बर तक प्रदेश की जनता को ये सब कुछ सुनना पड़ेगे, … क्योकि इसी साल विधानसभा चुनाव होने वाले है। सियासी खेल शुरू हो चुका है। दोनो दलों ने चुनावी साल का पहला शक्ति प्रदर्शन करने का ऐलान कर दिया है। कांग्रेस 26 जनवरी से प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ की अगुआई में कांग्रेस जनता से हाथ से हाथ जोड़ो अभियान चलाकर सरकार की नाकामी का ढोल बजाएगी। वही भाजपा शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में 5 फरवरी से विकास यात्रा निकाल कर सरकार की सफलताओ का लेखा – जोखा बताएगी।

“ट्रिपल ‘S’ भाजपा की सबसे बड़ी ताकत

चुनाव के दौरान भाजपा के लिए सरकार , संघ और संगठन तीनों शक्तियां काम करती है। ये ही उसकी सबसे बड़ी ताकत है। इसी प्रकार भाजपा संगठन मजबूत है और त्वरित निर्णय लेने में सक्षम भी है। भाजपा सोशल नेटवर्किंग ओर मीडिया मैनेजमेंट भी मजबूत और सक्रिय है। भाजपा में गुटबाजी जरूर होगी , लेकिन बाहर नही आती है। निगम चुनाव में टिकिट से वंचित नाराज नेताओ को मनाने के लिए सरकार ने राजनीतिक नियुक्तियों का दरवाजा खोल दिया है।

“ट्रिपल ‘K’ कांग्रेस की सबसे बड़ी शक्ति

कांग्रेस का चुनावी मैनेजमेंट भी किसी से कम नही है। इस वक्त कमलनाथ की शक्ति , किसानों का सहारा ओर कार्यकर्ताओ का जोश कांग्रेस की ताकत है। पिछला चुनाव कांग्रेस ने किसानों के सहारे जीत था। इस बार भी कांग्रेस को किसानों पर पूरा भरोसा है। पिछले माह प्रदेश में राहुल गांधी की रैली ने पार्टी को नई ताकत देकर कार्यकर्ताओं में जोश भर दिया। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ सरकार बनाने का सपना लेकर पूरे दमखम के साथ मैदान में है। कांग्रेस का एक कमजोर पक्ष पार्टी की गुटबाजी है। गुटबाजी इतनी हावी हो जाती है कि सारे प्लान पर पानी फिर जाता है। इससे बचना बेहद जरूरी है। कांग्रेस को इस चुनाव में सोशल नेटवर्किंग को बढ़ाना ओर सोशल मीडिया का सही इस्तेमाल करना भी एक बड़ी चुनोती है।

Also Read – अमेरिका के कैलिफोर्निया में फायरिंग, 10 लोगों की मौत, कई घायल

विकास यात्रा में भाजपा बताएगी हमने क्या किया

प्रदेश में विधानसभा चुनाव का रंग धीरे धीरे जमने लगा है। भाजपा और कांग्रेस के बीच प्रचार प्रसार की होड़ मचना शुरू हो गई है। एक-दूसरे पर हल्ला बोलने के लिए रणनीति तैयार की है। भाजपा शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में 5 फरवरी से पूरे प्रदेश में विकास यात्रा निकाल रही है। अपनी इस विकास यात्रा के माध्यम से भाजपा अपनी सफलता का लेख – जोखा आम जनता के सामने रखेगी। सरकार और संगठन ने विकास यात्रा का जो प्लान तैयार किया है उसके मुताबिक सरकारी योजनाओं की सफलता शहर से लेकर गांव तक पहुंचाई जाएंगी। साथ ही पार्टी के कार्यकर्ता प्रदेश में फिर से सरकार बनाने के लक्ष्य को जनता तक पहुंचाएंगे।

सत्ता में वापसी के लिए कांग्रेस करेगी जनता से सीधा संवाद

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा से प्रेरणा लेकर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ भी सरकार बनाने के लिए हाथ से हाथ जोड़ो अभियान शुरू कर रहे है। गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रध्वज और कांग्रेस का झंडा फहराकर हाथ से हाथ जोड़ो अभियान की शुरुआत करेंगे। इस अभियान के दौरान कांग्रेसी शहर – शहर , गांव गावँ जाकर लोंगो से मिलेंगे और सरकार की नाकामी बताएंगे। कांग्रेस का यह अभियान भाजपा की विकास यात्रा (5 फरवरी ) से पहले शुरू होगा । कांग्रेस ने भी फिर से सरकार बनाने का लक्ष्य रखा है।