Breaking News

भाजपा सांसद राकेश सिन्हा ने भी पत्रकारिता विवि से लिये 9 लाख रुपये – कांग्रेस | BJP MP Rakesh Sinha also paid 9 Lakh Rupees for Journalism

Posted on: 20 Apr 2019 20:46 by bharat prajapat
भाजपा सांसद राकेश सिन्हा ने भी पत्रकारिता विवि से लिये 9 लाख रुपये – कांग्रेस | BJP MP Rakesh Sinha also paid 9 Lakh Rupees for Journalism

मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कमलनाथ के मीडिया समन्यवक नरेन्द्र सलूजा ने भाजपा सांसद राकेश सिन्हा के आरोपो के जवाब में पलटवार करते हुए कहा कि अपने खिलाफ जांच से बचने के लिये भाजपा सांसद और आरएसएस विचारक राकेश सिन्हा ने जिस तरह से माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति बी के कुठियाला (जो आरएसएस के सदस्य हैं) की आर्थिक अनियमितताओ ,शराब के बिलों के मामलों के बचाव में जिस तरह से आज प्रेस वार्ता आयोजित कर मुख्यमंत्री कमलनाथ पर आरोप लगाए हैं उससे स्पष्ट हो गया है की “चौकीदार ही चोर है।’

सलूजा ने कहा कि भाजपा सांसद राकेश सिन्हा ने स्वयं माखनलाल पत्रकारिता विश्वविद्यालय से छह महीनों के भीतर बिना पढ़ाए लाखों रुपए का भुगतान लिया। जब यह चोरी पकड़ी गई और उन पर EOW की जांच शुरू हो गयी तब उन्हें अचानक से नैतिकता और शिक्षा के राजनीतिकरण की याद आ गई।

राकेश सिन्हा बताएं की पत्रकारिता विश्वविद्यालय का राजनीतिकरण किसने किया। पिछले 15 सालों के दौरान जिस तरह से पूर्व कुलपति कुठियाला ने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और आरएसएस के अनुषांगिक संगठनों पर पैसा लुटाया, वह क्या था। नागपुर, बंगलुरु और राज्य के बाहर जिस तरह से राजनैतिक और आरएसएस के कार्यक्रमों की फंडिंग विश्वविद्यालय की तरफ से हुई, वह क्या था?

अपनी पोल खुलने के बाद मुख्यमंत्री कमलनाथ के विरुद्ध जिस तरह से आज मनगढ़ंत आरोप लगाए गए हैं।उन पर किसी को सफाई देने की जरूरत नहीं है। विधायकों के भाजपा में जाने की गीदड़ भभकी कई बार माननीय मुख्यमंत्री को भाजपा नेताओं ने दी है।क्या हुआ? सभी जानते हैं। सिन्हा को अपनी चिंता करनी चाहिए। सिन्हा केवल भ्रष्टाचार की जांच को भटकाने के लिए यह हथकंडे अपना रहे है।

सलूजा ने कहा कि सिन्हा और उनकी पार्टी और उनके साथ खड़े तथाकथित बुद्धिजीवियों को याद दिलाना उचित होगा की रोहित वेमुला, गुजरात में दलितों का उत्पीड़न और पुणे में किस तरह से दलितों की पिटाई भाजपा की सरकारों ने की है, वह किसी से छिपा नहीं है।

सिन्हा अपने साथियों के खिलाफ एफआईआर हो जाने से इतने बोखलाए कि उन्हें दिल्ली से भोपाल आकर प्रेस कॉन्फ्रेंस करना पड़ी। वे यह तक भूल गए कि मध्यप्रदेश सरकार ने विश्वविद्यालय के अधिनियम के अनुसार चयन समिति गठित कर कर कुलपति नियुक्त किया है। पिछले कुलपति जगदीश उपासने भी इसी तरह की प्रक्रिया से नियुक्त हुए थे। चयन समिति में प्रदेश और राष्ट्रीय स्तर के तीन प्रतिष्ठित पत्रकार थे।

वैसे आरएसएस के जुड़े पूर्व कुलपति कुठियाला की विश्वविद्यालय के पैसे से शराबखोरी के मामले के सामने आने के बाद उसको उचित ठहराने के प्रयास में की गई प्रेस कांफ्रेंस से संघ और भाजपा का असली चेहरा उजागर हो गया है।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com