Breaking News

जेल से रिहा हुए विधायक आकाश विजयवर्गीय, बोले, अच्छा बीता वक्त

Posted on: 30 Jun 2019 12:56 by Surbhi Bhawsar
जेल से रिहा हुए विधायक आकाश विजयवर्गीय, बोले, अच्छा बीता वक्त

इंदौर: भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे व विधायक आकाश विजयवर्गीय रविवार सुबह जेल से रिहा हो गए। नगर निगम अधिकारी को बल्ले से पीटने के आरोपी आकाश को शनिवार को जमानत मिल गई थी, लेकिन कागजी प्रक्रिया पूरी नहीं होने के कारण वह बाहर नहीं आ सके थे। रविवार सुबह को सारी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद आकाश विजयवर्गीय बाहर आए।

जेल से बाहर आते ही आकाश ने कहा कि जेल में उनका समय अच्छा बीता। आकाश विजयवर्गीय ने कहा कि वे अपने क्षेत्र और जनता की बेहतरी के लिए काम करते रहेंगे। इससे पहले कोर्ट ने सुनवाई करते हुए कहा कि केस डायरी में जर्जर मकान खतरनाक होने के दस्तावेज नहीं मिले हैं। जांच भी पूरी हो चुकी है। विधायक को पहले मामले में 50 हजार और दूसरे मामले में 20 हजार रुपए की जमानत व बंधपत्र दिए जाने पर छोड़ने के आदेश हुए हैं। विशेष न्यायाधीश सुरेश सिंह ने विधायक विजयवर्गीय के दोनों जेल रिलीज ऑर्डर भी एमजी रोड पुलिस अधिकारियों को सौंप दिए।

गौरतलब है कि आकाश विजयवर्गीय को भोपाल की विशेष अदालत से जमानत मिली थी। 26 जून को इंदौर नगर निगम के अधिकारी को बल्ले से पीटने के आरोपी आकाश विजयवर्गीय पर उसी दिन मुकदमा दर्ज हुआ था और उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था। इस मामले में जब आकाश की जमानत याचिका इंदौर कोर्ट पहुंची, तो उनकी याचिका को खारिज कर दिया था। तब इंदौर कोर्ट ने कहा कि यह मामला विधायक से जुड़ा है, इसलिए इसकी सुनवाई करना उसके क्षेत्राधिकार में नहीं है।

अदालत ने कहा कि इस केस की सुनवाई विधायकों और सांसदों के लिए बने भोपाल के विशेष कोर्ट में होनी चाहिए। इसके बाद आकाश विजयवर्गीय के वकील अपनी अर्जी लेकर भोपाल पहुंचे। भोपाल कोर्ट ने शुक्रवार को इंदौर केस से जुड़े दस्तावेज मंगवाने का आदेश देकर शनिवार को केस की सुनवाई का वक्त मुकर्रर किया। शनिवार को भोपाल में जज सुरेश सिंह ने दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद आकाश विजयवर्गीय को 20-20 हजार रुपए के बांड पर बेल दी।

जेल से बहार आने के बाद उनके समर्थकों ने उनका जोरदार स्वागत किया। जब आकाश घर पहुंचे तो फूल-माला से उनका स्वागत हुआ, आरती उतारी गई और मिठाई खिलाई गई। इतना ही नहीं पूरे रास्ते बैंड-बाजे भी बजते रहे।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com