बिहार में चमकी बुखार का कहर जारी, स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन और मंगल पांडेय पर मुकदमा दर्ज

0
59

बिहार में चमकी बुखार का कहर लगातार जारी है। इस जानलेवा बुखार से अब तक करीब 100 बच्चों की मौत हेा गई है। इसी बीच सामाजिक कार्यकर्ता तम्मना हाशमी ने मुजफ्फरपुर सीजेएम कोर्ट में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन और बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय के खिलाफ मुकदमा दायर किया है। हाशमी की ओर से दायर इस मुकदमें में 24 जून को सुनवाई की जाएगी।

दरअसल, रविवार को केन्द्रीय स्वास्थ्य हर्षवर्धन ने राज्य के मुज्जफरपुर जिले का दौरा किया था। जहां पर बीते एक पखवाड़े में 100 से अधिक बच्चों की मौत हो गई है। बता दे कि ये मौते दिनों एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) के कारण हुई है।

वहीं, केन्द्रीय मंत्री हर्षवर्धन, केन्द्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चैबे और बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने राज्य के स्वामित्व वाले श्रीकृष्णा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (एसकेएमसीएच) का दौरा किया था। जिला स्वास्थ्य अधिकारी का कहना है कि मंत्रियों द्वारा स्थिति का जायजा लिए जाने के बाद डाॅक्टरों के साथ एक समीक्षा बैठक भी की गई है।

बता दे कि इस खतरनाक बीमारी की इस चपेट में 15 साल की उम्र के बच्चे आ रहे है। इससे मरने वालों में ज्यादातर बच्चे एक से सात साल की आयु के बीच के है। इस बीमारी का शिकार आमतौर पर गरीब परिवार के बच्चे होते हैं। डॉक्टरों के मुताबिक, इस बीमारी का मुख्य लक्षण तेज बुखार, उल्टी-दस्त, बेहोशी और शरीर के अंगों में रह-रहकर कंपन (चमकी) होना है।

हर साल दिखता है कहर

हर साल इस मौसम में मुजफ्फरपुर में इस बीमारी का कहर देखने को मिलता है। पिछले साल गर्मी का कहर कम था इस कारण इस बीमारी का भी प्रभाव कम था। इस बीमारी की जांच के लिए दिल्ली से आई नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल की टीम और पुणे के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी) की टीम भी मुजफ्फरपुर का दौरा कर चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here