Breaking News

आलू विवाद: पेप्सिको के खिलाफ किसानों ने खोला मोर्चा, चिप्स में लगाई आग | Bhartiya Kisan Union Protest Against ‘Pepsico Company’!

Posted on: 02 May 2019 10:58 by Surbhi Bhawsar
आलू विवाद: पेप्सिको के खिलाफ किसानों ने खोला मोर्चा, चिप्स में लगाई आग | Bhartiya Kisan Union Protest Against ‘Pepsico Company’!

शामली: अमेरिका की बहुराष्ट्रीय कंपनी पेप्सिको के खिलाफ भारतीय किसान यूनियन ने मोर्चा खोल दिया है। कंपनी द्वारा गुजराती किसानों पर मुकदमा दर्ज किए जाने के विरोध में किसान सड़क पर उतर आए है। प्रदर्शनकारी किसानों ने बुधवार को सड़क पर शीतल पेय पदार्थ बिखेरकर और चिप्स के पैकेटों की होली जलाई। किसानों का कहना है कि पेटेंट कराने के नाम पर किसानों का उत्पीड़न किसी दशा में सहन नहीं किया जाएगा। दरअसल, पेप्सिको कंपनी का आरोप है कि खास किस्म के आलू की पैदावार मे गुजरात के किसानों ने गलत किया है। कंपनी ने साबरकांठा और अरावली जिलों के नौ किसानों पर आलू की अलग-अलग किस्मों की कथित खेती करने को लेकर मुकदमा कर दिया है।

भारतीय किसान यूनियन के किसानों ने बुधवार को यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत के नेतृत्व में जिला मुख्यालय पहुंच कर कलक्ट्रेट परिसर में धरना दिया। धरनास्थल पर हुई सभा में राकेश टिकैत ने कहा कि अमेरिका की बहुराष्ट्रीय कंपनी पेप्सिको ने एक खास किस्म का आलू उगाने पर गुजरात के किसानों के खिलाफ मुकदमे दर्ज कराए हैं। उन्होंने कहा कि जब तक किसानों से मुकदमे वापस नहीं लिए जाते, जिले में पेप्सिको के उत्पाद नहीं बेचने दिए जाएंगे।

संगठन के जिलाध्यक्ष राजू अहलावत ने कहा कि गुरूवार को शहर में लगे एक कंपनी के शीतल पेय पदार्थ और और चिप्स के होर्डिंग्स उतारे जाएंगे। यदि इस कंपनी के उत्पादों से लदी कोई गाड़ी शहर में दिखाई दी जो उसे कब्जे में कर लिया जाएगा। साथ ही कंपनी के गोदामों पर भी तालाबंदी की जाएगी।

धरने में ये लोग रहे शामिल

धरने के दौरान सिटी मजिस्ट्रेट अतुल कुमार, एडीएम प्रशासन अमित कुमार और एसपी यातायात बीबी चौरसिया को भाकियू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत के हस्ताक्षर युक्त ज्ञापन दिया गया। मौके पर अमरजीत सिंह, पुरकाजी चेयरमैन जहीर फारूकी, सनी राठी, विकास शर्मा, योगेश शर्मा, मांगेराम, मनोज सहरावत, अंकित चौधरी, बिजेंद्र बालियान, शाहिद आलम, युवा मंडल महासचिव नवीन राठी प्रधान, पीयूष पंवार, आदेश, कपिल सोम, विपिन आदि शामिल रहे। संचालन परवेंद्र ढाका ने किया।

कंपनी ने मांगा हर्जाना

पेप्सिको कंपनी का कहना है कि उसे पौध विविधता एवं किसान अधिकार संरक्षण अधिनियम, 2001 के तहत आलू की किस्मों पर पौध विविधता संरक्षण अधिकार मिला हुआ है। किसान बीज की किस्मों पर उसके अधिकारों का उल्लंघन कर आलू की पैदावार कर रहे थे। कंपनी ने अदालत में चार किसानों से एक-एक करोड़ रुपए और बाकी पांच किसानों से 20-20 लाख रुपए का हजार्ना मांगा है।

कानूनी कार्रवाई को अहमद पटेल ने बताया गलत

चुनावी मौसम में किसानों का यह मुद्दा सामने आते ही नेताओं के बयान आना शुरू हो गये है। कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने किसानों का पक्ष लेते हुए कंपनी द्वारा की गई कानूनी कार्रवाई को सरासर गलत करार दिया है। उन्होंने कहा कि कॉरपोरेट हित यह तय नहीं कर सकते कि किसानों को किन चीजों की खेती करनी चाहिए और किन चीजों की नहीं।

अहमद पटेल ने कहा कि गुजरात के आलू किसानों को अदालत तक ले जाने का पेप्सिको का फैसला गलत सलाह पर लिया गया निर्णय और सरासर गलत कदम है। गुजरात सरकार को इस घटनाक्रम से अपनी नजरें नहीं फेरनी चाहिए। यह पीपीवीएफआर अधिनियम के तहत किसानों के अधिकारों का हनन है।

 

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com